शाम 5 बजे बाद ही कर पाएंगे लक्ष्मी पूजा जानिए पूरी विधि और पूजन के मुहूर्त

आज दीपावली है और इस बार जो संयोग बन रहे हैं, उससे यह दीवाली बेहद शुभकारी साबित होने वाली है। कार्तिक माह की अमावस्या भी आज शाम से शुरू होगी, जो कल शाम 5 बजे तक जारी रहेगी। इसलिए आज दिन में दीपावली की पूजा के लिए शुभ मुहूर्त नहीं है। शाम 5 बजे बाद ही दीपावली पर मां लक्ष्मी की पूजा की जा सकती है। कल 25 तारीख को सूर्य ग्रहण भी है। आज शाम और रात को मुहूर्त रहेंगे। आपको बता दें कि करीब 2 हजार वर्ष बाद इस बार दीपावली पर बुध, गुरू, शुक्र और शनि अपनी ही राशि में रहेंगे। जिसकारण मां लक्ष्मी की पूजा के समय पांच राजयोग बन रहे हैं, जो सुख शांति और वृद्धि का संकेत दे रहे हैं। ज्योतिषियों ने इस दिन पूजा पाठ के लिए विधियां बताई हैं।

ALSO READ  Cold Water Side effect : सावधान ! फ्रिज का ठंडा पानी पीने से होती है, ये भयंकर बीमारियां

दीपावली पर मां लक्ष्मी की पूजा ऐसे करें: लौटे में गंगा जल जरूर लें। कुशा और फूल से खुद पर और अन्य परिवारजनों पर जल छिड़कें। फिर सभी को तिलक करें। इसके बाद प्रथम गणेश जी, फिर क्लश को तिलक करें और फिर सभी देवी-देवताओं व बाद में मां लक्ष्मी की पूजा करें।
बहीखाता पूजा: पूजा सामग्री व फूल लेकर मां सरस्वती का ध्यान करें, फिर ऊँ सरस्वत्यै नम: का जाप करें। मंत्र जाप करते हुए ही बहीखाता पर पूजा करें।

मां लक्ष्मी की इन तस्वीरों की ही करें पूजा

कार्तिक अमावस्या पर महालक्ष्मी की मूर्ति या फोटो की पूजा करने की परंपरा है। बाजार में लक्ष्मी जी की अलग-अलग फोटो मिलती हैं। पूजा के लिए देवी की कैसी फोटो सबसे अच्छी होती है, इस बारे में ज्योतिषियों का जो मानना है, वह पढि़ए। पूजा के लिए ऐसी तस्वीर खरीदें, जिसमें लक्ष्मी मां कमल के आसन पर विराजमान हों, उनके साथ एरावत हाथी भी हो तो पूजा के लिए फोटो सबसे उत्तम रहती है। तस्वीर में माता के दोनों ओर हाथी बहते पानी में खड़े हैं, सिक्कों की बारिश कर रहे हैं। सूंड में सोने का कलश लिए हुए हैं। यह फोटो भी उत्तम है, जिसमें लक्ष्मी जी और भगवान विष्णु जी गरुड़ पर विराजित हैं और मां लक्ष्मी विष्णु जी के पैरों की तरफ बैठी हो। तीसरी फोटो यह हो सकती है, जिसमें लक्ष्मी माता के साथ गणेश जी और मां सरस्वती भी हों, मां लक्ष्मी दोनों हाथों से धन बरसा रही हों। मां लक्ष्मी की ऐसी तस्वीरों की पूजा से बचना चाहिए, जिनमें उनके पैर दिख रहे हों या वे खड़ी मुद्रा में हों, उल्लू पर सवार मां की पूजा नहीं करनी चाहिए, कभी भी अकेली मां की फोटो की पूजा न करें।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *