Fatehabad

किसानों द्वारा की जा रही मांग पर बड़ी कार्रवाई : डीआरओ कार्यालय में सीएम फ्लाइंग की रेड, फसली मुआवजे का रिकॉर्ड खंगाला

फतेहाबाद। किसानों को खराब फसलों का मुआवजा न मिलने की आ रही शिकायतों के बाद आज सीएम फ्लाइंग की टीम द्वारा जिला राजस्व अधिकारी के कार्यालय में दबिश दी गई। इस दौरान टीम द्वारा राजस्व अधिकारी के कार्यालय में पहले हाजिरी चेक की। इसके बाद वर्ष 2021 से 23 तक प्राकृतिक कारणों से खराब हुई फसलों के मुआवजे संबंध में पूरा रिकॉर्ड खंगाला।

इस दौरान टीम द्वारा 2021 से 2022, 2022 से 2023 तक क्षेत्र में कितनी फसल खराब हुई, उसका कितना मुआवजा आया, कितना मुआवजा वितरित हुआ, कितना पेंडिंग रहा और पेंडिंग के क्या कारण रहे, इन सब पहलुओं को लेकर रिकॉर्ड खंगालना शुरू कर दिया। दोपहर बाद तक रेड कार्रवाई जारी है। टीम में एसआई सुरेंद्र सिंह, एएसआई अनिल, एएसआई जयवीर सिंह व सक्षम अधिकारी राकेश कुमार (राकेश कुमार) शामिल रहे।

 

रेड के चलते लघु सचिवालय में हड़कंप की स्थिति बनी रही। पिछले दिन रतिया हलके के दौरे पर पहुंचे मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी के समक्ष भी मुआवजा वितरण नहीं होने का मामला रखा गया था। मुख्यमंत्री उडऩदस्ते के सदस्यों ने कार्यालय में मौजूद कर्मचारियों से मुआवजा वितरण की जानकारी ली। इसके अलावा तहसीलदारों के अकाउंट की जानकारी भी ली गई

किसानों द्वारा की जा रही मांग पर बड़ी कार्रवाई : डीआरओ कार्यालय में सीएम फ्लाइंग की रेड, फसली मुआवजे का रिकॉर्ड खंगाला Read More »

स्कूल संचालकों को प्रशासन ने दी 10 दिन की मोहलत : डीसी से मिले स्कूल संचालक, 10 दिन में तय पूरे करने होंगे मानक

फतेहाबाद। कनीना बस दुर्घटना (Kanina School Bus Accident) के बाद प्रशासन द्वारा बरती जा रही सख्ती से घबराए फतेहाबाद (Fatehabad) जिला भर के स्कूल संचालक आज डीसी से मिलने पहुंचे। यहां डीसी राहुल नरवाल ने सभी स्कूल संचालकों के साथ मीटिंग कर उनकी मांगें सुनीं। जिसके बाद जिला प्रशासन द्वारा उन्हें 10 दिन का समय दिया गया है। 10 दिन तक वे स्कूल बसों के संबंध में तय सारे मानक पूरे करेंगे। तब तक सड़कों पर स्कूल बसों को नहीं रोका जाएगा और किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की जाएगी। 10 दिन बाद प्रशासन फिर अभियान चलाएगा और यदि फिर भी कोई बस बिना परमिट या फिटनेस के मिली तो उन पर शिकंजा कसा जाएगा।

इस संबंध में डीसी राहुल नरवाल ने बताया कि बसों की सेफ्टी के लिए कई तरह के नियम तय हैं। स्कूल बसों को इन्हें पूरा करना है और 17, 20 21, 27 व 28 अप्रैल को सभी स्कूल संचालक आरटीए कार्यालय जाकर यह नियम पूरे करे सकते हैं। तब तक 10 दिन के लिए उन्हें मोहलत दी गई है।

चालकों द्वारा शराब पीने के सवाल पर डीसी ने कहा कि जो स्कूल बस चालक शराब पीते हैं, उनकी समय-समय पर अब काऊंसलिंग करवाई जाएगी ताकि वे ड्यूटी के दौरान किसी प्रकार के नशे में न हो और कोई कोताही न बरतें। जगह जगह खुले प्ले स्कूल व अकादिमयों के बारे में डीसी ने बताया कि अभी तक इनके बारे में कोई निर्देश नहीं हैं, इसको लेकर जल्द ही मीटिंग कर निर्णय लिया जाएगा।

 

साथ ही उन्होंने बताया कि स्कूलों में जो टाटा ऐस या मेजिक गाडिय़ां लगी हैं, उनमें भी नियम पूरे करके ही बच्चों को बैठाया जा सकता है, अन्यथा नहीं। उपायुक्त ने बताया कि निजी स्कूल के प्रतिनिधियों को साथ लेकर प्रशासन द्वारा एक कमेटी बनाई जाएगी, जिसका नोडल अधिकारी सीटीएम होंगे। यह कमेटी जिले के सभी स्कूलों में जाकर वाहन चालकों और परिचालकों की कांऊसिंलग करेंगे। वही फतेहाबाद के डीसी ने कहा कि जो स्कूल बिना मान्यता के चल रहे हैं उसका रिकार्ड भी शिक्षा विभाग से मांगा गया है और उन पर सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। इस अवसर पर जिलेभर के स्कूल संचालक मौजूद रहे।

स्कूल संचालकों को प्रशासन ने दी 10 दिन की मोहलत : डीसी से मिले स्कूल संचालक, 10 दिन में तय पूरे करने होंगे मानक Read More »

Low price electronic Car launch : रतन टाटा ने गरीबों को दिया तोहफा, टाटा ने कम कीमत पर की इलेक्ट्रिक कार लॉन्च, आए जानें कार की कीमत

Low price electronic Car Launch : अब इलेक्ट्रिक कार का जमाना आ चुका है। हर कोई जानता है की, भारतीय ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री में टाटा एक बहुत बड़ा नाम है जिसकी बहुत सारी गाड़ियां प्रत्येक दिन बिकती है। टाटा देश के लोगों की आर्थिक स्थिति को देखते हुए कार का निर्माण करती है ताकि हर किसी के पास खुद की कार हो। जिस वजह से इलेक्ट्रिक कारों की मांग तेजी से बढ़ रही है।

इंडियन ऑटोमोबाइल बाजार में कई इलेक्ट्रिक कार लॉन्च (Low price electronic Car Launch) हो चुकी हैं, लेकिन अब टाटा ने भी अपना इलेक्ट्रिक कार लॉन्च कर दिया है। टाटा कम कीमत में अच्छी गाड़ियां उपलबद्ध करवाती है जिस वजह से इनकी कार वो लोग ज्यादा खरीदते हैं जिनकी बजट कम होती है।

 

टाटा वो कौनसी कार है जिसे ज्यादा लोग पसंद कर

कंपनी ने इस कार में कई खूबियां दी है जिस वजह से लोगों द्वारा इसे पसंद किया जा रहा है। हां, हम टाटा की जिस कार के बारे में बात कर रहे हैं वह Tata Tiago EV है। जिसे भारतीय बाजार में लॉन्च किया जा चुका है। टाटा ने इस कार की कीमत भी कम (Low price electronic Car Launch) रखी है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों के पास यह कार हो।

 

आए जानें Tata Tiago EV Car की रेंज और कुछ खासियत

आपको बता दें की, टाटा Tiago.ev में कई शानदार खूबियां दी गई है। इस कार में कंपनी द्वारा 315 किलोमीटर का रेंज दिया गया है, यानी कि इसे एक बार चार्ज करने के बाद 315 किलोमीटर तक का सफर तय किया जा सकता है। इस कार में कंपनी ने लिथियम आयन बैटरी का इस्तेमाल किया है, जिसकी क्षमता 29.3kwh है।

टाटा टियागो ईवी कार उन लोगों के लिए बढ़िया विकल्प है। जो किसी कार पर ज्यादा पैसे खर्च करने में सक्षम नहीं है। बता दें की, Tata Tiago EV Car में दो इलेक्ट्रिक मोटर का इस्तेमाल किया गया है जिस वजह से यह 73.5bhp की अधिकतम पावर प्रोड्यूस आसानी से कर लेती है।

 

कार को कितनी फीसदी में चार्जिंग का कितना टाइम लगता है ?

टाटा टियागो ईवी कार (Low price electronic Car Launch) के बारे में कंपनी का कहना है कि सिर्फ 58 मिनट में यह कार 80 फीसदी चार्ज हो जाती है। वहीं, इस कार में कंपनी ने 5 सीट प्रदान किया है, जो छोटे फैमिली के लिए सबसे बढ़िया विकल्प है।

 

जानें Tata Tiago EV Car की कीमत

आपकी जानकारी में बता दें की, भारतीय ऑटोमोबाइल बाजार में फिलहाल 20 से भी ज्यादा इलेक्ट्रिक कार मौजूद है, लेकिन उनमे से अधिकतर की कीमत आम लोगों की बजट से बाहर है। इसी वजह से टाटा ने कम बजट वाले लोगों के लिए टाटा टियागो ईवी कार लॉन्च (Low price electronic Car Launch) की है जिसकी एक्स-शोरूम कीमत उन्होंने सिर्फ 8 लाख रुपये रखी है।

जो लोग इलेक्ट्रिक कार (Low price electronic Car Launch) के पीछे ज्यादा पैसे निवेश करने के लिए तैयार नहीं है उनके लिए Tata New Tiago EV Car 2024 सबसे बढिया ऑप्शन है।

Low price electronic Car launch : रतन टाटा ने गरीबों को दिया तोहफा, टाटा ने कम कीमत पर की इलेक्ट्रिक कार लॉन्च, आए जानें कार की कीमत Read More »

Haryana Education Board : आपकी डीएमसी कट, फट या जल गई हो या चूहे कुतर गए है, तो आपको मिलेगी अब घर बैठे नई डीएमसी

Haryana Education Board : जब आपकी डीएमसी या सर्टिफिकेट जल जाता है, या घर पे अलमारी में चूहों दुवार कुत्तरी जाती है, तो आप अपने भविष्य को लेकर बहुत घबरा जा जाते हो। तो अब घबराने की जरूरत नहीं है। इस बीच आप लोगों के लिए हरियाणा शिक्षा बोर्ड ने खुश खबर दी है। हरियाणा बोर्ड (Haryana Education Board) ने इसके लिए भी व्यवस्था कर दी है। हरियाणा शिक्षा बोर्ड ने प्रमाण पत्र प्राप्त करने के लिए परिवार पहचान पत्र को अनिवार्य दस्तावेज बना दिया गया है।

 

कटे फटे डीएमसी या सर्टिफिकेट पर हरियाणा शिक्षा बोर्ड ने कही ये बात

हरियाणा शिक्षा बोर्ड भिवानी (Haryana Education Board) ने जानकारी देते हुए कहा है कि, सर्टिफिकेट खो जाने, जल जाने या फट जाने की स्थिति में दोबारा मंगवाना चाहते हैं तो सबसे पहले आपके पास अपने क्षतिग्रस्त सर्टिफिकेट की फोटो कॉपी होनी चाहिए। इस फोटोकॉपी के माध्यम से आप प्रमाण पत्र की मूल प्रति प्राप्त करने के लिए दिए गए आधिकारिक प्रारूप को सही ढंग से भर सकेंगे।

दिए गए प्रारूप को भरने से पहले यह भी सुनिश्चित कर लें कि प्रमाण पत्र में उल्लिखित आवेदक का नाम, जन्मतिथि और माता- पिता का नाम वही होना चाहिए जो हरियाणा परिवार पहचान पत्र में उल्लेखित है।

आपको बता दें की, आवेदन पत्र को प्रमाण पत्र की फोटो कॉपी की सहायता से अपनी सुविधा के अनुसार हिंदी या अंग्रेजी में भरें, या उस स्कूल के हेडमास्टर या प्रिंसिपल से भरवाएं जहां छात्र ने पढ़ाई की थी। जबकि इसे विद्यालय से प्रमाणित कराना अनिवार्य है।

अगर विद्यालय बंद है, तो आवेदन पत्र को उस ब्लॉक के उच्च शिक्षा अधिकारी से प्रमाणित कराना अनिवार्य है। अगर सर्टिफिकेट खो जाए या चोरी हो जाए, तो ऐसी स्थिति में प्रमाणित करने वाला अधिकारी आवेदक से FIR की मांग भी कर सकता है।

 

नए सर्टिफिकेट के लिए कैसे करें अप्लाई

नए सर्टिफिकेट से समंधित आवेदन पत्र को सही ढंग से भरने और उसको देखने के बाद saralharayana.gov.in की मुख्य वेबसाइट पर लॉग इन करेंगे और इसके बाद आप Apply For Services -View All Services-Search-Duplicate सर्टिफिकेट बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन हरियाणा (Haryana Education Board) पर क्लिक करेंगे। यहां आपको हरियाणा परिवार पहचान पत्र भरना अनिवार्य होगा।

जान लें की, फैमिली आईडी के जरिए खुलने वाले इस फॉर्म में कुछ जानकारी मांगी जाती है। जो आपके आवेदन पत्र पर भी लिखी होती है। फॉर्म भरने के बाद आपसे दस्तावेज अपलोड करने के लिए कहा जाएगा और फिर आप यूपीआई के माध्यम से सभी प्रमाणपत्रों (Haryana Education Board) के लिए अलग- अलग फार्म फीस पेमेंट कर सकते हैं।

इस कार्य को करने के लिए कहीं भी किसी भी प्रकार की ऑपरेटर आईडी या कियोस्क आईडी की आवश्यकता नहीं है, न ही कोई छिपा हुआ चार्ज की आवश्यकता है।

Haryana Education Board : आपकी डीएमसी कट, फट या जल गई हो या चूहे कुतर गए है, तो आपको मिलेगी अब घर बैठे नई डीएमसी Read More »

दिग्विजय बोले मेरे विरोध प्लानिंग अभय चौटाला की कोठी पर हुई : बोले दुष्यंत से लोग दुष्यंत से नाराज नहीं, उनको खट्टर के साथ देखकर नाराज हुए

फतेहाबाद। जेजेपी नेता दिग्विजय चौटाला आज फतेहाबाद के भट्टू क्षेत्र में कार्यकर्ताओं से मिले और उनसे चुनावी रणनीति पर चर्चा की। हालांकि एक-दो गांवों में किसान संगठनों से जुड़े लोगों ने उनकी गाड़ी रुकवाकर विरोध शुरू कर दिया।

 

इसके बाद फतेहाबाद में पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने अपने चाचा अभय चौटाला के खिलाफ बोलते हुए कहा कि बीते दिन डबवाली में हुए विरोध की प्लानिंग उनके चाचा अभय चौटाला के घर तैयार की गई थी, इसके बारे में उन्हें गुप्त सूचना तक मिल गई थी। यदि गांव वाले विरोध करने वालों को बाहर न करते तो उन पर हमला भी किया जा सकता था। साथ ही उन्होंने यहां तक कह दिया कि उन्हें वापस बुलाने का फैसला का अधिकार ओमप्रकाश चौटाला के पास है, अभय चौटाला इस पर फैसला नहीं ले सकते।

निशान सिंह के पार्टी छोडऩे के सवाल पर दिग्विजय चौटाला ने कहा कि बसंत ऋतु आती है, जो पतझड़ के बाद आती है, अभी पतझड़ है। 6 साल पहले हर तरह के लोग हमारे साथ चल पड़े थे, अब चुनाव के समय पतझड़ हर तरफ है, पुराने जाएंगे नए शामिल होंगे। मूल पेड़ मजबूत खड़ा रहना चाहिए, जड़ मजबूत होनी चाहिए, पत्ते झड़कर नए आना यह एक प्रक्रिया है। चौ.देवीलाल ने देश के दो प्रधानमंत्री बनाए, पहला प्रधानमंत्री विश्व प्रताप सिंह उन्हें तीन माह बाद ही छोड़कर चले गए। निशान सिंह हमारे लिए आदरणीय हैं, वे नेक और अच्छे इंसान हैं, वे खुद कहते थे कि जात से जमात बड़ी होती है, इसलिए जमात यानि जेजेपी बड़ी है।

भाजपा द्वारा क्षेत्रीय दलों को त्यागने के सवाल पर दिग्विजय चौटाला ने कहा कि बार बार जो जैसा बर्ताव करता है, उसके साथ प्रकृति वैसा ही करता है। अब हमारा लक्ष्य गठबंधन करना नहीं, बड़ी पार्टियों को न जीताकर क्षेत्रीय दलों को आगे लाना है, जो जनता की आवाज  उठा सके। ईडी पर उठ रहे सवालों पर उन्होंने कहा कि कुछ को जेलों में डाल दिया, जो डर गए, वो भाजपा में चले गए, यह अनुचित ही है। केजरीवाल के जेल में जाने से एक बहुत बड़े वर्ग को महसूस हुआ है कि भाजपा ने उनकी भावनाओं को आहत किया है। कहीं न कहीं देशभर में भाजपा के खिलाफ भावना बन रही है। इस गुब्बार की शुरूआत लंबे समय से हो चुकी थी।

 

बीते दिन दिग्विजय के हुए विरोध पर विरोध के सवाल पर उन्होंने कहा कि मेरा जो विरोध हुआ, वो आज एक्सपोज हो गए, कैसे अभय चौटाला की कोठी पर लोगों को बुलाकर उन्हें विरोध के लिए कहा गया। यदि गांव वाले उनका साथ देते तो वे मेरे पर बड़ा हमला करते, गांव वालों ने उनका हाथ पकड़कर उन्हें गांव से निकाला कि यहां पंचायती ठेकेदार बनने की जरूरत नहीं।

 

मनोहर लाल की छवि के कारण जेजेपी को बहुत बड़ी हानि हुई। दुष्यंत से लोग नाराज नहीं थे, दुष्यंत को जब मनोहर लाल के साथ देखते तो लोग कहते थे, इनके साथ खड़े आप अच्छे नहीं लगते, हमारा गुस्सा आपसे नहीं, इनसे है। इसलिए आज जो छोटा मोटा विरोध है, वो इनके कारण है। कई बार इन चीजों को समझने में समय लग जाता है। जेजेपी ने न कानून बनाए, न लागू किए, न हटाए। जेजेपी हमेशा किसानों के साथ रही, मैंने हमेशा किसानों के पक्ष में आवाज उठाई। उन्होंने कहा कि एक दो दिन में लिस्ट फाइनल कर कैंडीडेट घोषित कर दिए जाएंगे। सिरसा से बहुत मजबूत उम्मीदवार सामने आएगा।

 

अभय चौटाला के बयान पर सवाल के जवाब में दिग्विजय ने कहा कि उनके पिता अजय चौटाला हमेशा सकारात्मक बात करते हैं, उन्होंने कहा था कि जब हमें निकालने वाले उन्हें बुलाएंगे तो वे बच्चों के साथ चले जाएंगे। पार्टी से निकालने का वो फैसला भी उन्होंने किया, यह फैसला भी वही करेंगे, हम नहीं। प्रेस के सवाल पर अभय चोटाला तिलमिलाकर अपनी भड़ास निकालते हैं कि वे ही सबसे बड़ी अथॉरिटी हैं। अभय चौटाला से हम जवाब नहीं चाहते, यह अथॉरिटी ओमप्रकाश चौटाला के पास है, क्योंकि हमें निकालने का फैसला उनका था, इस मसले पर अभय चौटाला को परेशान मत करें, वो वैसे ही ब्लड प्रेशर से परेशान हैं।

 

किसानों द्वारा किए जाने वाले विरोध पर उन्होंने कहा कि विरोध करने वाले किसी किसान जत्थेबंदी के आदेश पर नहीं आ रहे। किसी भी गांव में कोई भी पार्टी का आदमी काले झंडे लेकर और किसानों का पटका पहनकर उनके आगे मुर्दाबाद के नारे लगाए तो इसका मतलब क्या है? अभय चौटाला ने राजस्थान चुनाव में नोहर में भाजपा की मदद नहीं क्या? क्यों नहीं किसान उनका विरोध करते ? किसान जत्थेबंदिया भाजपा के लिए वोट मांगने वाले अभय चौटाला का विरोध क्यों नहीं करते। क्या किसी किसान संस्था की कॉल है विरोध की ? व्यक्तिगत तौर पर कोई विरोध कर रहा है, वह यह सोचे उन्हें गांव में बुलाने वाले भी तो किसान ही होंगे, भाजपा वाले तो दूर से लट्ठ मारते हैं, आसपास भी नहीं फटकने देते, हमारे कम से कम कॉलर तो पकड़ सकते हो। उन्होंने कहा कि भाजपा वालों का जितना विरोध होगा, उतना ही भाजपा को फायदा होगा, क्योंकि जो विरोध करते हैं, उनके खिलाफत करने वाले लोग भाजपा को वोट देंगे।

 

दिग्विजय चौटाला ने कहा कि मिल जुलकर बैठकर किसी भी नाराजगी को दूर किया जा सकता है, नहीं तो वोट में अपनी नाराजगी व्यक्त करें। उन्होंने कहा कि आज प्रूफ हो गया है, मुझे गुप्त सूचना से पता चला कि आज पीपली गांव में उन पर हमला होगा, फोन कटते ही सामने विरोध करने आ गए। मुझे नाम के साथ बताया गया कि कौन कौन उनके विरोध में सम्मिलित होंगे। इस बारे में टिकैत से बात हुई तो उन्होंने भी यह कहा कि हमारा कोई आदेश नहीं है, व्यक्तिगत कोई विरोध कर रहा होगा?

दिग्विजय बोले मेरे विरोध प्लानिंग अभय चौटाला की कोठी पर हुई : बोले दुष्यंत से लोग दुष्यंत से नाराज नहीं, उनको खट्टर के साथ देखकर नाराज हुए Read More »

अमेरिका वर्क वीजा के नाम पर युवक को इरान में बनाया बंधक : हरियाणा के 7 युवक फंसे, मारपीट कर पासपोर्ट छीन, इंडियन अंबेसी में पहुंचे

फतेहाबाद। फतेहाबाद के टोहाना क्षेत्र में कबूतरबाजों ने एक युवक को अमेरिका का सपना दिखाकर इरान में अवैध रूप से भेज दिया और वहां उसे बंधक बनाकर बुरी तरह पीटा। आरोपियों ने युवक के परिजनों से उसकी बात करवाकर 25 लाख रुपये मांगे, रुपये न देने पर उसे बुरी तरह पीटते रहे। युवक जाखल क्षेत्र में तैनात एक एएसआई का पुत्र है और उसके अनुसार वह अकेला नहीं उसके साथ 6 अन्य युवक भी फंसे हुए हैं।

टोहाना सिटी पुलिस ने युवक के पिता की शिकायत पर आईपीसी की धारा 323, 34, 341, 384, 387, 406, 420, 506 के तहत मामला दर्ज किया है। उधर जब मामला एसपी आस्था मोदी के संज्ञान में आया तो उन्होंने विदेश मंत्रालय और इंडियन अंबेसी तक यह बात पहुंचा दी, जिसके बाद सभी युवकों को इंडियन अंबेसी में सुरक्षित रखवाया गया है। 6 अन्य युवक हरियाणा के अन्य क्षेत्रों से बताए जा रहे हैं।

 

पुलिस को दी शिकायत में टोहाना निवासी ईश्वर सिंह ने बताया कि 7-8 माह पहले उसके बेटे अमित की गांव सीसर नरवाना निवासी मोहित व किठाना कैथल निवासी अशोक से मुलाकात हुई थी, जिन्होंने अमेरिका वर्क वीजा लगाने की बात कही और इसके लिए 45 लाख रुपये मांगे। साथ ही कहा कि पैसे अमेरिका जाने के बाद दे देना। उसने बताया कि पांच छह माह पहले झांसे में आकर उसका लड़का यहां से अमेरिका के लिए चंडीगढ़ एयरपोर्ट से चला गया। उसके बाद उससे व्हाट्सएप पर बातें होती रही, तब वह बताता रहा कि अभी वह वियतनाम में है और कभी किसी अन्य देश में है।

 

शिकायतकर्ता अनुसार बाद में उसके बेटे को एक माह से अशोक द्वारा इरान में रखा हुआ था। 8 अप्रैल को सुबह 10 बजे उसके फोन पर व्हाट्सएप कॉल आई, जिसमें उसके बेटे ने रोते हुए बताया कि उसे व उसके 6 दोस्तों को इरान में बंधक बनाकर पीटा है और उसे 25 लाख रुपये की मांग कर रहे हैं। 9 अप्रैल तक उसके बेटे से फोन करवाकर उससे रुपयों के लिए कहलवाते रहे और वह कहता रहा कि अभी पैसों का इंतेजाम नहीं हो पा रहा, इंतेजाम होते ही रुपये डाल दूंगा।

 

इश्वर ने बताया कि इसके कुछ देर बाद फिर उसके बेटे का कॉल आया कि उसके मोबाइल, डॉलर, पासपोर्ट छीनकर व मारपीटकर उसे इरान में इंडियन एंबेसी के पास छोड़ दिया है। जिसके बाद ईश्वर ने इस मामले की जानकारी पुलिस को दी। उधर जब यह मामला एसपी आस्था मोदी के संज्ञान में आया तो उन्होंने विदेश मंत्रालय व इंडियन अंबेसी तक मामला पहुंचाया। जिसके बाद अब सभी युवकों को इंडियन अंबेसी में सुरक्षित रखा गया है।

एसपी आस्था मोदी ने बताया कि युवक अभी सुरक्षित हैं। फतेहाबाद जिले के युवक सहित एक अन्य का पासपोर्ट छीन लिया गया है जबकि अन्य के वीजा एक्सपायर हो चुके हैं, इसलिए उन्हें अभी थोड़ी प्रक्रिया को पूरा करने के बाद ही भारत वापस लाया जा सकता है।

अमेरिका वर्क वीजा के नाम पर युवक को इरान में बनाया बंधक : हरियाणा के 7 युवक फंसे, मारपीट कर पासपोर्ट छीन, इंडियन अंबेसी में पहुंचे Read More »

फतेहाबाद में स्कूल बसों पर कसा शिंकजा: पांच बसों के काटे चालान, एक के पास परमिट नहीं, एक ओवरलोड मिली

फतेहाबाद। महेंंद्रगढ़ के कनीना में बीते दिन हुए भयावह स्कूल बस हादसा के बाद फतेहाबाद जिला प्रशासन जाग गया है। आज ट्रैफिक पुलिस द्वारा सुबह सवेरे स्कूल बसों पर कार्रवाई शुरू कर दी। पुलिस द्वारा भट्टू रोड मिनी बाईपास चौराहे पर नाकाबंदी कर दी और आने जाने वाली स्कूल बसों को रुकवाकर उनकी जांच पड़ताल की।

इस दौरान पांच स्कूल बसों के चालान काटे गए। इनमें एक बस बिना परमिट और बिना नंबर के चल रही थी। साथ ही एक बस में सीटों से ज्यादा विद्यार्थी चढ़े मिले। इसके बाद स्कूलों में जाकर भी वाहनों की चेकिंग शुरू कर दी गई।

जिला पुलिस द्वारा आज जिलेभर में स्कूल बसों की जांच को लेकर अभियान चला दिया है। ट्रैफिक पुलिस इंचार्ज हेतराम ने बताया कि दिनभर सारी स्कूल बसों की जांच की जाएगी। उन्होंने बताया कि सुबह पांच बसों के चालान किए गए हैं। उन्होंने बताया कि हाईकोर्ट द्वारा दिए निर्देशों अनुसार बसों में सीसीटीवी कैमरे, जीपीएस सही तरीके से काम न करने और एक बस में ओवरलोड होने के चलते चालान किए गए हैं। साथ ही एक बस का परमिट व नंबर नहीं मिला।

 

काफी स्कूल बस निकल चुकी थी, इसलिए अब स्कूलों में जाकर स्कूल बसों की फिटनेस व अन्य नियम कायदों की जांच की जाएगी। यदि बसों में नियमों का पालन नहीं मिलता तो चालान किए जाएंगे।

फतेहाबाद में स्कूल बसों पर कसा शिंकजा: पांच बसों के काटे चालान, एक के पास परमिट नहीं, एक ओवरलोड मिली Read More »

बढ़ने लगी चोरी तो एसपी दरबार पहुंचे विभिन्न संगठन, डीएसपी बोले: अगले तीन दिन में सुलझा लेंगे वर्मा मेडीकल चोरी मामला

फतेहाबाद: स्थानीय डीएसपी रोड स्थित एक मैडीकल स्टोर से हुई करीब 80 हजार की चोरी व लाजपत नगर में महिलाओं के साथ हुई झपटमारी वारदातों पर रोष प्रकट करते हुए बड़ी संख्या में लोग लघु सचिवालय स्थित एसपी दरबार पहुंचे। यहां एसपी की गैर मौजूदगी में विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधि डीएसपी जगदीश काजला से मिले। यहां पुलिस पर चोर को पकड़ने में ढुलमुल रवैया अपनाने का आरोप लगाया। इस पर डीएसपी जगदीश काजला ने प्रतिनिधिमंडल को आश्वस्त किया कि अगले तीन दिन में पुलिस वर्मा मेडीकल पर हुई चोरी वारदात को अंजाम देने वाले का सुराग लगा लेगी। इसके लिए उन्होंने संबंधित थाना इंचार्ज को फोन करके सख्त कार्रवाई के निर्देश भी दिए।
गौरतलब है कि बीती 1 अप्रैल की सुबह एक नकाबपोश युवक डीएसपी रोड स्थित वर्मा मेडीकल स्टोर के गेट का ताला तोड़कर 80 हजार रूपए की चोरी कर ले गया था। इस वारदात के दो दिन बाद लाजपत नगर की समाधा वाली गली में भी अज्ञात युवक ने दो महिलाओं के साथ झपटमारी वारदात को अंजाम दिया। वहीं विगत दिवस शाम के समय एक वृद्ध महिला पर हमला कर नकाबपोश युवक कान की बालियां छीन ले गया था। इस घटना में वृद्धा को गंभीर चोटें आई थी। एक सप्ताह में लगातार 4 वारदात होने से क्षेत्र के लोगों में भय का माहौल है। वहीं पुलिस द्वारा कोई ठोस कदम न उठाए जाने के रोष स्वरूप विभिन्न संगठन एकजुट होकर एसपी से मिलने पहुंचे थे। डीएसपी जगदीश काजला को मांगपत्र सौंपने वालों में फतेहाबाद मेडीकल एसोसिएशन प्रधान रवि बाना, नायक समाज सभा प्रधान सुलतान नायक, बिश्नोई समाज प्रतिनिधि रमेश बिश्नोई, समाजसेवी जगदीश नायक, जिन्दगी संस्था अध्यक्ष हरदीप सिंह, महेन्द्र वर्मा, गुलाब वर्मा, दिलावर सिंह, महेन्द्र कुमार, अनिल कंबोज आदि शामिल रहे।

बाॅक्स
चोरी करने उपरांत रतिया चुंगी पर नशा लेने पहुंचा था नकाबपोश युवक
फतेहाबाद: डीएसपी से मिले प्रतिनिधिमंडल ने बताया कि चोरी की घटना के बाद भी जब पुलिस ने कोई ठोस कदम नहीं उठाया तो उन्होंने अपने स्तर पर अलग-अलग जगह के सीसी टीवी कैमरों में चोर की शिनाख्त करने का प्रयास किया। उन्होंने बताया कि इन कैमरों से पता लगा था कि चोर मेडीकल स्टोर से 80 हजार रूपए चुराने उपरांत जीटी रोड से होता हुआ रतिया चुंगी स्थित गुरू नानक पुरा मोहल्ला पहुंचा था। यहां उसने नशा तस्करों से नशा खरीद था। इसकी जानकारी व सीसी टीवी फुटेज तक जांच कर रही पुलिस को दी गई, मगर फिर भी पुलिस चोर का कोई सुराग नहीं लगा सकी है। प्रतिनिधिमंडल ने स्पष्ट किया कि यदि तीन दिन में पुलिस ने कोई ठोस कार्रवाई नहीं की तो वे फतेहाबाद आगमन पर सीएम नायब सैनी से मिलकर कार्रवाई की मांग करेंगे।

बढ़ने लगी चोरी तो एसपी दरबार पहुंचे विभिन्न संगठन, डीएसपी बोले: अगले तीन दिन में सुलझा लेंगे वर्मा मेडीकल चोरी मामला Read More »

Haryana Politics : JJP को हरियाणा में 2 बड़े झटके, प्रदेशाध्यक्ष निशान सिंह औऱ प्रदेश महिला सचिव ने छोड़ी जेजेपी

Nishan singh left JJP : लोकसभा चुनावों से पहले हरियाणा प्रदेश की राजनीति में सियासी भुचाल जारी है।
हरियाणा में जेजेपी को एक ही दिन में दो बड़े झटके लगे हैं। जेजेपी के प्रदेश अध्यक्ष निशान सिंह और महिला प्रदेश सचिव ममता कटारिया ने जेजेपी को अलविदा कह दिया है।
निशान सिंह ने बताया कि वे पार्टी को छोड़ चुके हैं और मौखिक तौर पर पार्टी आलाकमान को सूचित कर चुके हैं। जल्द ही वे लिखित में अपना इस्तीफा पार्टी को भेज देंगे।

 

कांग्रेस में जाने की अटकलों पर उन्होंने बताया कि आगे किसी पार्टी में जाना है या नहीं इस पर अभी विचार नहीं किया है। उन्होंने बताया कि आजकल में वे अपने वर्करों की मीटिंग बुलाएंगे और मीटिंग में उनसे रायशुमारी करेंगे। मीटिंग में जो निर्णय लिया जाएगा, आगे उसी निर्णय के आधार पर फैसला लिया जाएगा।

 

हाल ही के समय में जेजेपी का ग्राफ लगातार नीचे की तरफ गया है। पार्टी बिखराव के दौर से गुजर रही है। पहले गठबंधन टूटने से सत्ता गई, फिर पार्टी के कई विधायक जेजेपी से खफा नजर आ रहे हैं। अब निशान सिंह पार्टी छोड़ गए हैं। निशान सिंह पार्टी की नीतियों से भी खफा बताए जा रहे हैं।

 

बता दें कि कल शाम से ही निशान सिंह के पार्टी को छोडऩे की अटकलें तेज हो गई थी। निशान सिंह 1999 में इनेलो पार्टी से टोहाना से विधायक चुने गए थे। इसके बाद वे इनेलो में ही रहे, लेकिन जब इनेलो से टूट कर जेजेपी बनी तो वे इनेलो छोड़कर दुष्यंत चौटाला के साथ जेजेपी में आ गए थे। पार्टी द्वारा उन्हें जेजेपी का प्रदेश अध्यक्ष बना दिया गया। वर्ष 2019 में जेजेपी ने कांग्रेस छोड़कर आए देवेंद्र ङ्क्षसह बबली को टोहाना से टिकट थमा दी थी, जिस कारण निशान सिंह टोहाना से विधानसभा चुनाव नहीं लड़ पाए थे।

 

निशान सिंह ने कहा कि मैं उस फिजा का हिस्सा नहीं हूं, मैं इधर जाने, उधर जाने की फिजा का हिस्सा नहीं हूं, 23 मार्च 1994 को इनेलो ज्वाइन किया था, 30 वर्षों के बाद मन बदल गया है। कुछ कारण होते हैं, उन कारणों को लेकर मन बदल गया है। अभी वर्बली रिजाइन कर दिया है, बाद में राष्ट्रीय अध्यक्ष को घर जाकर रिजाइन देकर आऊंगा। सारे साथी पारिवारक मेंबर होते हैं, उनसे राय लेकर आगे निर्णय लूंगा।

 

क्या बोले निशान सिंह
निशान सिंह ने कहा कि पार्टी को अलविदा कह दिया है। पार्टी निर्णय बारे कहा कि अभी तो मौखिक तौर पर कहा है, लिखित में बाद में रिजाइन दूंगा, आगे का निर्णय भाईचारे के साथ बैठकर लूंगा। कई बार आप जिन आशाओं को लेकर आगे बढ़ जाते हैं, कहीं न कहीं बीच में रुकावटें और ब्रेकर आ जाते हैं, जिसकारण आज यह दुखद निर्णय करना पड़ा। यह मुझे भी अच्छा नहीं लगा रहा, लेकिन यह एक मजबूरी होती है। कहीं आपको लगे कि मेरी भावनाओं का हनन हो रहा है तो ऐसे निर्णय लेने पड़ते हैं।

 

मुझे लगता है कि हम सही दिशा में नहीं जा रहे, इससे ज्यादा कुछ नहीं कहूंगा, क्योंकि अभी तक तो रेजिगनेशन भी अधूरा सा है। हमारा जो सिद्धांत सबसे बड़ा धर्म होता है, मेरा धर्म यह कहता है कि हम नहीं चंगे तो बुरा नहीं कोये। मैं वो पॉलिटीशन की तरह जल्दबाजी वाला नहीं हूं जो पार्टी छोडऩे पर बुरा भला कहकर सहानुभूति ले। कहा जाता है मित्र को जब छोडऩा है, मित्रता के भाव से ही छोडि़ए, ताकि मिलें तो शर्मिंदा न हों।

 

 

प्रदेश महिला सचिव ने भी छेाड़ी जेजेपी

फतेहाबाद जिले में जेजेपी को एक और झटका लगा है। प्रदेशाध्यक्ष निशान सिंह के बाद पार्टी की प्रदेश महिला सचिव ममता कटारिया ने भी पार्टी को अलविदा कह दिया है। उन्होंने वीडियो जारी कर कहा कि दुष्यंत चौटाला ने डिप्टी सीएम रहते हुए रतिया हलके को बिलकुल अनदेखा कर दिया, रतिया में कोई काम नहीं हुए, जब वे फील्ड में जाते थे तो लोग काम का पूछते थे, उनका कोई काम नहीं हुआ, जिस कारण वह पार्टी छोड़ रही हैं। अभी फिल्हाल आगे के लिए कोई फैसला लिया नहीं, पहले वर्करों से बात करेंगी।

 

Haryana Politics : JJP को हरियाणा में 2 बड़े झटके, प्रदेशाध्यक्ष निशान सिंह औऱ प्रदेश महिला सचिव ने छोड़ी जेजेपी Read More »

Honda City car fell in Bhakra branch canal, driver's body found 50 meters away, car taken out with the help of crane

Car fell in Bhakra branch ; भाखड़ा ब्रांच नहर में गिरी होंडा सिटी कार, 50 मीटर दूर मिली ड्राइवर की लाश, क्रेन की मदद से निकाली गाड़ी

Car fell in Bhakra branch in Tohana : हरियाणा में फतेहाबाद के टोहाना शहर के रेलवे रोड के पास भाखड़ा ब्रांच नहर में होंडा सिटी कार ड्राइवर समेत समा गई। इसमें ड्राइवर की मौत हो गई। जिस जगह पर गाड़ी डूबी थी, उससे 50 मीटर आगे जाकर ड्राइवर की डेड बाडी मिली। पुलिस को सूचना मिली तो क्रेन की सहायता से मौके पर बुलवाकर गाड़ी को निकाल लिया है। वहीं जब गोताखोरों की टीम को बुलकर नहर (Tohana) में सर्च अभियान चलाया और गाड़ी से करीब 50 मीटर की दूरी पर एक शव बरामद हुआ। फिलहाल पुलिस की जांच में जुटी हुई है।

 

जानकारी के अनुसार सुबह शहर के दमकौरा रोड पर कुछ लोगों ने भाखड़ा नहर में एक होंडा सिटी गाड़ी (Car) गिरी देखी तो पुलिस को सूचना दी गई। प्रत्यक्षदर्शी लोगों ने बताया कि अल सुबह यह गाड़ी नहर (Bhakhra branch) की रेलिंग तोड़ते हुए नहर के अंदर जा गिरी। पुलिस ने गाड़ी (Car) को बाहर निकलवाया तो उसमें कोई सवार नहीं था, लेकिन गोताखोरों ने करीब 50 मीटर दूर एक शख्स का शव निकाल लिया।

 

उसके पास मिले आईकार्ड से उसकी पहचान लहरा गागा निवासी 30 वर्षीय गगनदीप के रूप में हुई। पुलिस ने जांच की तो पता चला कि मृतक बठिंडा में विजा कंसलटेंसी का काम करता था। मृतक के परिजनों को सूचना दे दी गई और अभी भी नहर में तलाश अभियान जारी है।

 


Election Commission’s website hacked ; हरियाणा में चुनाव आयोग की वेबसाइट हैक कर रिजेक्ट की आप की रैली की परमिशन, कमेंट में लिखी गंदी गाली, पांच अधिकारी सस्पेंड

Car fell in Bhakra branch ; भाखड़ा ब्रांच नहर में गिरी होंडा सिटी कार, 50 मीटर दूर मिली ड्राइवर की लाश, क्रेन की मदद से निकाली गाड़ी Read More »