टेक ज्ञान

टेक ज्ञान

America news : अब अमेरिका में रहना होगा मुश्किल, अमेरिका में बसने का सपना देख रहे हैं तो ठीक से सोच लीजिए

America news : दशकों से रोजगार आधारित ग्रीन कार्ड (जीसी) का इंतजार करते-करते थक चुके भारतीयों को अमेरिका में रहने में मुश्किलें बढ़ रही हैं। हाल ही में, अमेरिकी नागरिकता और इमिग्रेशन सर्विस (USCIS) ने गर्व से एक्स पर पोस्ट किया कि भारत की एक 99 वर्षीय महिला को नागरिकता प्रदान की गई है। ‘वे कहते हैं कि उम्र सिर्फ एक नंबर है। यह बात 99 वर्षीय इस महिला के लिए सच साबित होती है जो हमारे ऑरलैंडो ऑफिस में नई अमेरिकी नागरिक बन गई हैं। दाईबाई भारत से हैं और निष्ठा की शपथ लेने के लिए उत्साहित थीं। ‘

एक व्यक्ति ने यूएससीआईएस को जवाबी बयान देते हुए लिखा, ‘हाहाहा, जल्द ही आप मरणोपरांत ग्रीन कार्ड देंगे!’ ग्रीन कार्ड अमेरिकी नागरिकता (America news) की ओर पहला कदम है। आम तौर पर, जी.सी. रखने के पांच साल बाद ही (अगर आप किसी अमेरिकी नागरिक से विवाहित हैं तो यह अवधि तीन साल तक कम हो जाती है) आप नागरिकता के लिए आवेदन कर सकते हैं। दिक्कत यह है कि अगर आप भारत से हैं तो इसके लिए दशकों तक लाइन में लगना पड़ता है।

 

अमेरिका ने 1920 से लीगल इमीग्रेशन को कर रखा है बैन

बता दें की, 1920 के दशक से ही अमेरिका (America news) ने लीगल इमीग्रेशन को प्रतिबंधित कर रखा है। कैटो इंस्टीट्यूट में इमीग्रेशन स्टडीज के निदेशक डेविड जे बियर बताते हैं कि यह सिस्टम उन लोगों को प्लान पूरी तरह से फेल कर देती है जो वैध और व्यवस्थित तरीके से ‘अमेरिका में रहने के सपने’ को पूरा करने की आकांक्षा रखते हैं।

उनके फरवरी 2024 के रिसर्ट में पता चलता है कि ‘ग्रीन कार्ड अप्रूवल रेट रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंच गया। ये दिखाता है कि ग्रीन कार्ड का आवेदन जमा करने वालों में से महज 3 फीसदी को ही वित्त वर्ष 2024 (30 सितंबर, 2024 को समाप्ति) के दौरान स्थायी दर्जा प्राप्त होगा।

 

1 अक्टूबर, 2023 तक, लगभग 34.7 मिलियन एप्लिकेशंस पेंडिंग थे। 1996 में लगभग 10 मिलियन से ज्यादा आवेदन लंबित थे। कैटो इंस्टीट्यूट में इमीग्रेशन स्टडीज के निदेशक डेविड जे बियर कहते हैं कि इनमें से कई लोग सही मायने में आवेदक नहीं हैं। अधिकांश (ज्यादातर भारतीय) कैप नंबर उपलब्ध होने का इंतजार कर रहे हैं, जिसके बाद वे औपचारिक ग्रीन कार्ड आवेदन दायर कर सकते हैं।

समग्र सीमा के अलावा, चाहे वह रोजगार या परिवार आधारित जी.सी. के लिए हो, कोई भी देश ग्रीन कार्ड (देश की सीमा) के 7 फीसदी से अधिक प्राप्त नहीं कर सकता है। यह लिमिट भारतीयों और, कुछ हद तक, चीनी नागरिकों पर प्रतिकूल प्रभाव डालती है।

नेशनल फाउंडेशन फॉर अमेरिकन पॉलिसी, जिसने हाल ही में इमिग्रेशन संबंधी आंकड़ों का विश्लेषण किया है, बताया कि 1.2 मिलियन से अधिक हाई स्किल्ड भारतीय, जिनमें उनके आश्रित भी शामिल हैं, पहले, दूसरे और तीसरे रोजगार-आधारित जी.सी. कैटेगरी में प्रतीक्षा कर रहे हैं।

 

रोजगार के आधार पे मिलता है ग्रीन कार्ड

वित्त वर्ष 2024 में, लगभग 8 फीसदी पेंडिंग रोजगार आधारित आवेदनों को ग्रीन कार्ड के लिए स्वीकृत किया जाएगा। लेकिन इनमें से अधिकांश उन आवेदकों को नहीं मिलेंगे जिन्होंने सबसे लंबे समय तक इंतजार किया है। वहीं अमेरिका (America news) कुल सीमा 1.4 लाख प्रति वर्ष निर्धारित की गई है, साथ ही इस श्रेणी में आने वाले परिवार से संबंधित ग्रीन कार्ड भी शामिल हैं।

इसके बजाय, देश की सीमा के कारण, अगले साल अप्लाई करने वाले आवेदक चीन और भारत के आवेदकों को पीछे छोड़ देंगे। इनमें से कई पहले से ही 100 से अधिक वर्षों से प्रतीक्षा कर रहे हैं।

पहले के रिसर्च से पता चला था कि भारत से रोजगार आधारित GC बैकलॉग (EB-2 और EB-3 स्किल्ड कैटेगरी) मार्च 2023 में 1 मिलियन को पार कर गया। अगर मृत्यु और ‘उम्र बढ़ने’ जैसे कारकों पर विचार किया जाए, तो GC के लिए प्रतीक्षा अवधि 54 साल है। अन्यथा, यह 134 साल है।

 

क्या है ? परिवार प्रायोजित ग्रीन कार्ड

इस श्रेणी में प्रतीक्षा कर रहे 4.14 लाख भारतीय ग्रीन कार्ड प्राप्त करने से पहले ही मर जाएंगे। भारतीय परिवारों के 1 लाख से अधिक बच्चे वयस्क हो जाएंगे (21 वर्ष के हो जाएंगे), और उनका डिपेंडेंट वीजा अब मान्य नहीं होगा, और वे ग्रीन कार्ड की लाइन से बाहर हो जाएंगे।

इन 21 वर्षीय लोगों के लिए, इसका मतलब है इंटरनेशन स्टूडेंट वीजा (America news) या फिर सेल्फ डिपोर्टेशन। अध्ययन के बाद, अगर वे अमेरिका में रहना जारी रखना चाहते हैं, तो इतिहास खुद को दोहराता है, H-1B और ग्रीन कार्ड बैकलॉग के प्रयासों के साथ ही ऐसा होगा।

जी.सी. धारकों के जीवनसाथी और नाबालिग बच्चों के लिए 2.26 लाख की सीमा है। यहां तक कि अमेरिकी नागरिकों के वयस्क बच्चे और भाई-बहन भी इस श्रेणी में आते हैं। यहां, मेक्सिको और फिलीपींस के लोगों को सबसे लंबा इंतजार करना पड़ता है।

 

बाइडेन के 2020 के चुनावी वायदे

अपने 2020 के चुनावी अभियान में, जो बाइडेन ने कानूनी आव्रजन प्रणाली (लीगल इमिग्रेशन सिस्टम) में सुधार का वादा किया था। 21 जनवरी, 2021 को पदभार ग्रहण करने के अपने पहले दिन, उन्होंने कांग्रेस को यूएस सिटिजनशिप एक्ट भेजा। भारतीय प्रवासियों के लिए और वास्तव में, अमेरिका (America news) में रहने के इच्छुक लोगों के लिए – रोजगार-आधारित वीजा बैकलॉग को साफ करने का प्रस्ताव इसमें था। इसके अलावा अनयूज्ड वीजा को फिर प्राप्त करने, लंबे प्रतीक्षा समय को कम करने और प्रति देश वीजा कैप को समाप्त करने के प्रपोडल भी इसमें प्रमुख थे।

इस विधेयक में एच-1बी वीजा धारकों के आश्रितों को काम करने की अनुमति भी दी गई है। उनके बच्चों को सिस्टम से ‘वृद्धावस्था से बाहर’ होने से बचाया गया है। ये सुधार – भले ही इसके बाद आए द्विदलीय विधेयकों सहित कई अन्य बिल में नजर आया। हालांकि, ये फलीभूत नहीं हुए। 2024 के लिए बाइडेन का कैंपेन लोगो है- ‘चलो काम खत्म करते हैं’। अभी तक, राजनीतिक बहसों और तीखे हमलों में बॉर्डर कंट्रोल पर ध्यान केंद्रित किया गया है। भारतीय प्रवासी इंतजार कर रहे हैं।

 

भारतीयों के प्रति ट्रम्प का प्रस्तावित नियोजना

भारतीय प्रवासियों के दृष्टिकोण से, जन्म से नागरिकता (America news) को खत्म करना एक गंभीर मुद्दा होगा। ट्रम्प की ओर से लीगल इमिग्रेशन पर भी नकेल कसने की संभावना है।

इसमें फिर से H-1B वीजा में पत्नियों के वर्क परमिट को खत्म करने, अंतर्राष्ट्रीय छात्रों के लिए वीजा अवधि को सीमित करने, उनके लिए अध्ययन के बाद के स्टडी वर्क प्रोग्राम को सीमित करने और H-1B वीजा कार्यक्रम में सख्ती लाने से संबंधित नीतियों को देख सकते हैं। जैसे कि इन वीजा (America news) को सबसे अधिक वेतन पाने वालों को आवंटित करना। लीगल इमिग्रेंट्स के लिए बदलाव की हवा अभी तक आती नहीं दिख रही है।

डोनाल्ड ट्रम्प का इमिग्रेशन विरोधी रुख, कथित तौर पर, और भी तेज होगा। बड़े पैमाने पर निर्वासन, डाका (डेफर्ड एक्शन फॉर चाइल्डहुड अराइवल्स) को खत्म करना, जो उन लोगों को सुरक्षा प्रदान करता है जो बिना दस्तावेज वाले अप्रवासियों के बच्चों के रूप में अमेरिका में प्रवेश करते हैं। इसके अलावा मुस्लिम देशों से आने वालों के लिए यात्रा प्रतिबंध कार्ड पर प्रतीत होते हैं।

America news : अब अमेरिका में रहना होगा मुश्किल, अमेरिका में बसने का सपना देख रहे हैं तो ठीक से सोच लीजिए Read More »

Mughal harm : मुगल हरम में ऐसी क्या चीजें परोसी जाती थी, जिससे मुगल बादशाहों की ताकत बढ़ती थी ! आए जानें इसके बारें में

Mughal harm : मुगल हरम में ऐसी क्या चीजें परोसी जाती थी, जिससे मुगल बादशाहों की ताकत बढ़ती थी ! आए जानें इसके बारें मेंकेंद्र सरकार के द्वारा नई शिक्षा नीति के तहत किताबों के इतिहास में बेशक मुगलकाल हटा दिया गया हो, लेकिन मुगलकाल के बारें में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर जमकर पोस्टींग वायरल होती हैं। इस बीच हम आपकों मुगल बादशाहों की दावत में मुगल हरम की चीजों के बारें में बता रहें हैं, जिससे मुगल बादशाहों की ताकत बढ़ती थी।

 

मुगल हरम में खाने की क्या चीजें होती थी ?

मुगलकाल में मुगल बादशाह अपनी शारिरिक ताकत को बढ़ाने के लिए ऐसी (Mughal harm) चीजें खाते थे, जो आयुर्वेद में कमजोरी के लिए अति प्रिय मानी गई हैै। बता दें कि, मुगल अपनी ताकत बढ़ानेे के लिए खानपान पर विशेष ध्यान देते थे और हाई प्रोटीन के साथ कई तरह की जड़ी-बूटियों का सेवन भी करते थे। वहीं मुगल खजूर का सेवन रोज करते थे, भीगे खजूर शारीरिक कमजोरी दूर कर हीमोंग्लोबिन बढ़ाते हैं।

मुगल शासक रोज रात में खाने के बाद दूध के साथ अंजीर पका कर खाते थे, अंजीर एनर्जी का पावर हाउस माना जाता है। इसके अलावा वें लौंग को दूध में उबाल कर पिया करते थे, जिसमें कैल्सियम, पोटेशियम होता है! जो शरीर को नई एनर्जी से भर देती है।

मुगल हरम (Mughal harm) में दालचीनी और इलायची वालेे दूध भी स्वीट डिश में शामिल थे। क्योंकि ये चीजें मूड के साथ थकान को भी दूर करती हैं। इसके साथ ही अश्वगंधा, शतावरी और शिलाजीत जैसी जड़ियां भी मुगलकाल में खाई जाती थीं, ये तीनों ही पुरूषों और महिलाओं दोनों की शारीरिक कमजोरी को दूर करती हैं।

पाठक अवश्य ध्यान दें, यह खबरी गंधाश केवल आपको सूचित करने के लिए है। इस मुगल हरम (Mughal harm)  में शामिल सभी खाने की सामग्री पर अमल करने से पहले अपने विशषज्ञ डॉक्टर से परामर्श अवश्य लें।

Mughal harm : मुगल हरम में ऐसी क्या चीजें परोसी जाती थी, जिससे मुगल बादशाहों की ताकत बढ़ती थी ! आए जानें इसके बारें में Read More »

E-Ration card Update : घर बैठे मोबाईल से 2 मिनट में ई- राशन कार्ड कैसे प्राप्त करें, आये जाने इसके बारे में

E-Ration card Update : आपको बता दें की, यदि आपका भी राशन कार्ड खो गया है या फिर आपने नए राशन कार्ड के लिए आवेदन किया था जो अभी तक नहीं आया है, तो इस स्थिति में आप ऑनलाइन माध्यम से भी ई- राशन कार्ड(E-Ration card Update ) डाउनलोड कर प्राप्त कर सकते हैं।

 

ई-राशन कार्ड क्या है ?

ई- राशन कार्ड (E-Ration card Update ) की सहायता से हम किसी भी राशन डीलर से सरकार द्वारा दी जा रही राशन सामग्री या अन्य सेवाओं का लाभ प्राप्त कर सकते हैं। पहले राशन कार्ड धारकों के पास केवल राशन कार्ड की हार्ड कॉपी हुआ करती थी, जो कई बार घूम हो जाती थी या फिर फट जाती थी। राशन कार्ड के खों जाने या फिर फट जाने के कारण राशन कार्ड धारकों को इसके लाभ प्राप्त करने में परेशानी का सामना करना पड़ता था।

सरकार द्वारा राशन कार्ड धारकों की इस परेशानी को सॉल्व करने के लिए ई- राशन कार्ड (E-Ration card Update )  जारी कर दिया है। अब आप एनएफएसए या फिर स्टेट राशन पोर्टल पर जाकर आपका राशन कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं। इसके अलावा आप आपके फोन में डीजी-लॉकर की सहायता से भी ई राशन कार्ड डाउनलोड कर प्राप्त कर सकते हैं।

 

आपके परिवार का ई-राशन कार्ड कैसे डाउनलोड करें ?

  • सबसे पहले आपको NFSA की अधिकारी वेबसाइट www.nfsa.gov.in पर जाना है।
  • इसके बाद आप आधिकारिक वेबसाइट पर राशन कार्ड के सेक्शन में राशन कार्ड डिटेल्स ऑन स्टेट पोर्टल के ऑप्शन को सेलेक्ट करना है।
  • यहां पर इसके बाद आपको भारत के समस्त राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के राशन कार्ड पोर्टल का डायरेक्ट लिंक मिल जाएगा।
  • अब इसके बाद आप आपके राज्य के पोर्टल लिंक का चयन करें।
  • इसके बाद आपके सामने नया वेब पेज ओपन होगा।
  • यहां पर इसके बाद आपको आपके जिले का चयन करना है।
  • अब इसके बाद आपके सामने आपके जिले के शहरी व ग्रामीण दोनों क्षेत्रों के राशन कार्ड आ जाएंगे इनमें से आपको शहरी या ग्रामीण में से एक सेलेक्ट करना है।
  • इसके बाद आपको तहसील फिर पंचायत तथा अंत में आपका गांव चुनना है।
  • इसके बाद आपके सामने आपके गांव के समस्त परिवारों की राशन कार्ड (E-Ration card Update ) डिटेल्स आ जाएगी।
  • इनमें से इसके बाद आपको आपके नाम या राशन कार्ड नंबर से राशन कार्ड की जानकारी सर्च करनी है।
  • इसके बाद आपको दिए गए राशन कार्ड नंबर को चुनना है, जिससे आपके परिवार की राशन कार्ड जानकारी आपके सामने ओपन हो जाएगी।
  • इस प्रक्रिया के तहत आप ई- राशन कार्ड (E-Ration card Update ) को डाउनलोड भी कर सकते हैं।
  • इस प्रकार आप आसानी से आपके परिवार का ही राशन कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं।

डीजी लॉकर से आपके परिवार का ई- राशन कार्ड डाउनलोड कर सकते है

  • सबसे पहले आपको आपके मोबाइल में डीजी लॉकर एप्पलीकेशन को डाउनलोड करना है तथा इसमें लॉग इन करना है।
  • अब इसके बाद आपको सर्च के ऑप्शन में जाकर राशन कार्ड सर्च करना है।
  • इसके बाद आपके राज्य के राशन कार्ड के ऑप्शन को चुनना है।
  • इसके बाद  दिए गए बॉक्स में आपके राशन कार्ड नंबर दर्ज करने है।
  • इसके बाद आप अब केप्चा कोड दर्ज करे तथा सबमिट करे।
  • आपका राशन कार्ड आपके डीजी लॉकर अकाउंट में सेव हो जायेगा, जिसे आप कभी भी डाउनलोड कर सकते है।

राशन कार्ड ऑनलाइन कैसे डाउनलोड करें?

आपको बता दें की, आप ऑनलाइन NFSA की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आपका ई राशन कार्ड (E-Ration card Update ) डाउनलोड कर सकते है। इसके अलावा आप डीजी लॉकर की सहायता से भी ई-राशन कार्ड डाउनलोड कर सकते है।

 

E-Ration card Update : घर बैठे मोबाईल से 2 मिनट में ई- राशन कार्ड कैसे प्राप्त करें, आये जाने इसके बारे में Read More »

Superhit Business Idea Update : हर महीने कमा सकते हो 50 से 60 हजार रूपिए, बस शुरू करें कम लागत में यह सुपरहिट बिजनेस

Superhit Business Idea Update : बेरोजगारी के दौर में आपके लिए ये बिजनेस बन सकता है वरदान! जिसके माध्यम से हजारों – लाखों रूपिए प्रति माह कमा सकते हैं। अगर आप एक नौकरी के साथ अतिरिक्त कमाई की तलाश में हैं, तो हम आपको एक धांसू व्यापार विचार के बारे में बता रहे हैं। यह व्यापार खिलौना उद्योग से जुड़ा है। आप इसे शुरू करके आत्मनिर्भर भारत के अभियान में अपना योगदान दे सकते हैं। खिलौनों की मांग कभी कम नहीं होती है, तो यह व्यापार आपके लिए बहुत ही लाभदायक हो सकता है।

सीधी बात यह है कि भारत में अधिकतर खिलौने (Superhit Business Idea Update) चीन से आयात किए जाते हैं, जो दिखाता है कि, भारतीय खिलौने बाजार में चीन ने अपनी धाक जमा रखी है। इसलिए मोदी सरकार का उद्देश्य चीन द्वारा जमाई हुई इस धाक को खत्म करना है और बाहरी देशों में भारत से बने खिलौने का निर्यात करना है। इससे भारत की तरफ से निर्यात में वृद्धि होगी और अर्थव्यवस्था में भी इसका योगदान होगा।

 

छोटे स्तर से लेकर बड़े स्तर तक से खिलौने का व्यापार कैसा होता है ?

यह बिल्कुल भी आवश्यक नहीं है कि, आप बड़े स्तर पर ही किसी व्यापार की शुरुआत करें। बल्कि आप व्यापार (Superhit Business Idea Update) को छोटे स्तर से शुरू करके एक बड़े मुकाम तक ले जा सकते हैं। इस खिलौने व्यापार को भी आप छोटे स्तर पर अपने घर से ही शुरू कर सकते हैं। शुरुआत में आपको 40 हजार रुपए तक की लागत आएगी, जिससे शुरुआती दौर में महीने के 50,000 रुपए तक आप कमा सकते हैं।

 

खिलौने बनाने के लिए कौनसी मशीन और क्या समान चाहिए ?

बता दें कि, आपको इस व्यापार को शुरू करने के लिए और खिलौने (Superhit Business Idea Update) बनाने के लिए 2 मशीन, कच्चा माल और छोटे स्तर पर टेडी और सॉफ्ट टॉय बनाने के लिए एक मशीन चाहिए ! जो हाथों से चलती है।

इसके साथ हाथ से चलने वाली कपड़े काटने की मशीन भी चाहिए जो आपको बाजार से 40,00 रुपए की शुरुआती कीमत पर मिल जाएगी। जबकि सिलाई मशीन भी 5000 की शुरुआती कीमत के साथ आती है। बाकी अन्य खर्चों के लिए 5000 से 7000 रुपए की आवश्यकता होगी।

मात्र 15000 रूपए से रॉ मैटेरियल खरीदकर आप शुरू में 100 यूनिट सॉफ्ट टॉय और टेडी बना सकते हो। अतः इस आधार पर आपको करीबन 35 से 40 हजार की जरूरत पड़ेगी इस बिजनेस को शुरू करने के लिए। जबकि बाजार में यह सॉफ्ट टॉय या टेडी (Superhit Business Idea Update) आराम से 400 से 500 रुपए की कीमत पर बिक जायेंगे। इस तरह से आप हर महीने 50 से 60 हजार रूपिए की कमाई कर सकते हो।

Superhit Business Idea Update : हर महीने कमा सकते हो 50 से 60 हजार रूपिए, बस शुरू करें कम लागत में यह सुपरहिट बिजनेस Read More »

Loyal Man and Woman fact : इन पुरूषों पर जान छिड़कती है महिलाएं, करने लगती है अदा भरे ऐसे इशारे

Loyal Man and Woman fact : जहां आचार्य चाणक्य को भारत के महान राजनितिक एंव अर्थशास्त्र के नीति के महान दार्शनिक माने जातें है। वहीं आचार्य मनोविज्ञान एंव व्यवहारिक जीवन के शिक्षक भी मानें जाते है। आचार्य चाणक्य ने अर्थशास्त्र, राजनीति, कूटनीति के अलावा व्यवहारिक जीवन की भी कई बातें बताई हैं। उनके दिए हुए वचन आज भी मनुष्य के मुश्किल समय में काफी सहायता करती हैं। चाणक्य की गूूढ़ बातें और नीतियां आज के समाज के लिए भी काफी उपयोगी है।

मनुष्य जीवन के प्रति चाणक्य ने अपनी नीतियों में बड़ों, बुजुर्गों, बच्चों सभी के लिए कोई न कोई सीख दी है। जिसकी सीख पर अमल कर आप मनुष्य अपने जीवन को संवार सकता है।

 

चाणक्य महिला एंव पुरूष के व्यवहारों पर क्या प्रतिक्रिया दी है

चाणक्य नीतियां काफी प्रचलित हैं, जो हमें जीवन के बारे में बहुत कुछ सिखाते हैं। इन्हीं में से एक हैं महिला और पुरूष के रिश्तों के बारे में।

आचार्य के मुताबिक दोनों महिला और पुरूष (Loyal Man and Woman fact) अपने लिए अच्छा जीवनसाथी ढूंढ़ने का प्रयास करते हैं। महिलाएं में कुछ खास गुण होने पर फिदा हो जाती हैं।

 

पुरूष चरित्र पर चाणक्य का श्लोक

महिलाएं ऐसे पुरूषों को बहुत पसंद करती हैं और उन्हें अपनी जिंदगी में शामिल करना चाहती हैं। इसलिए चाणक्य ने पुरूष के चरित्र पर एक श्लोक लिखा है। जैसे: –

यथा चतुर्भिः कनकं परीक्ष्यते, निघर्षणच्छेदनतापताडनैः
तथा चतुर्भिः पुरूषः परीक्ष्यते, श्रुतेन शीलेन गुणेन कर्मणा।।

अथार्थ आचार्य चाणक्य नें इस श्लोक में आदर्श पुरूष के और आदतों के बारे में बताया है। जो पुरूष ईमानदारी, अच्छा व्यवहार और अच्छा श्रोता होता है। वह हर जगह समान का पात्र होता है। और ऐसे पुरूषों को स्त्रियां भी खूब पसंद करती हैं।

 

पुरूष का ईमानदार चरित्र ही महिलाएं को करता है आकर्षित

आचार्य चाणक्य के अनुसार, ऐसें पुरूष (Loyal Man and Woman fact) जो अपनी पत्नी और प्रेमिका के प्रति ईमानदार होता है और पराई स्त्री को बुरी नजर से नहीं देखता है, उनकी तरफ महिलाएं बहुत ही आकर्षित होती हैं। महिलाएं ऐसे पुरूषों के प्रति अपने संबंध बनाने का हर मुमकिन प्रयास करती हैं।

 

शांत स्वभाव के पुरूष

चाणक्य के नीति शास़्त्र के अनुसार जो व्यक्ति शांत, सरल और सौम्य स्वभाव के होते हैं, ऐसे पुरूषों पर महिलाएं जल्द अपना दिल हार बैठती हैं। शांत और सुलझे हुए व्यक्तियों की प्रति महिलाएं बहुत ज्यादा आकर्षित होती हैं। इसलिए शांत स्वभाव वाले पुरूषों पर महिलाएं जल्द फिदा हो जातीं हैं।

 

पुरूष का स्वभाविक रूप से अच्छा श्रोता होना

खुशी या दुःख के दिनों में हर कोई चाहता है कि, उनकी बातों के ध्यान से सुना जाए और उसे तवज्जो दी जाए। ऐसे में हर महिलाओं (Loyal Man and Woman fact) को दिल में इच्छा होती है कि उसका जीवनसाथी अच्छे श्रोता स्वभाव का है। वो न सिर्फ उसकी हर छोटी- बड़ी बातों को सुने समझे यानि उसको उसकी अहमियत दें।

एक आदर्श पुरूष की पहचान उसका अच्छा स्वभाव एंव व्यवहारिक के आधार पर ही तय होता है। इसलिए महिलाएं (Loyal Man and Woman fact) अपने साथी से अपना दुख दर्द बांटकर सुकून पाती हैं।

ऐसे पुरूष जो कठोर वचन कहते हैं और अपनी मनमानी करते हैं। उन्हें महिलाएं पसंद नहीं करती हैं। पुरू़षों के ये गुण उन्हें न सिर्फ महिलाओं के बीच लोकप्रिय बना देते हैं। समाज में भी सम्मान के पात्र होते हैं। इस प्रकार के गुण एक आदर्श पुरूष की पहिचान होती है।

Loyal Man and Woman fact : इन पुरूषों पर जान छिड़कती है महिलाएं, करने लगती है अदा भरे ऐसे इशारे Read More »

PM Vishwa Karma Yojana Update : प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना के तहत लाभार्थी महिला को सिलाई मशीन खरीदने के लिए मिलेंगे इतने रूपये, आए जानें क्या है योजना

PM Vishwa Karma Yojana Update : महिलाओं के लिए खुशखबरी, प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना के तहत लाभार्थी महिलाओं को सिलाई मशीन खरीदने के लिए 15000 रूपये तक की राशि अनुदान दी जाती है। इस योजना के तहत अनुदान धन प्राप्त करने के लिए महिला को ऑनलाइन फॉर्म अप्लाई करना होगा।

बता दें कि, अब इस योजना (PM Vishwa Karma Yojana Update) में परिवर्तन यानि बदलाव किया जाएगा, यानि आवेदिका को एक ही ई-वाउचर दिया जाएगा। वहीं पहले इस योजना के तहत लाभार्थी के सीधे बैंक खाते में सहायक राशि दे जानी थी। लेकिन अब आपको ई- वाउचर के माध्यम से 15000 रूपये की राशि प्रदान की जाएगी।

 

फ्री सिलाई मशीन के लिए टूलकिट ई-वाउचर

टाईटल फ्री सिलाई मशीन टूल किट ई-वाउचर
योजना का नाम प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना (PM Vishwa Karma Yojana Update)
किसके द्वारा षुरू की देश के प्रधानमंत्री नरेंन्द्र मोदी ने
लाभार्थी देश की महिलाएं
उद्देश्य टूल किट के लिए 1500 रूपये की सहायक राशि प्रदान करना
आवदेन प्रोसेस ऑनलाइन
अधिकारिक वेबसाइट Pmvishwakarma.gov.in

 

सिलाई मशीन टूलकिट ई-वाउचर के लिए कैसे करें आवदेन

 आपको सबसे पहले अपने स्मार्टफोन में गूगल प्ले स्टोर से भीम यूपीआई ऐप Bhim UPI App को डाउनलोड कर लेना है।
 अब आपको इस ऐप को अपने आधार कार्ड से लिंक मॉबाईल नंबर Sign up कर लेना है।
 अब आपको ऐप के होम पेज पर सर्विसज के सेक्षन में ई-वाउचर के Option पर क्लिक करना है।
 इसके बाद अब आपके सामने एक नया पेज सामने आ जाएगा।
 अब आपको इस पेज पर कंटीन्यू एक्टिव और इन एक्टिव वाउचर की जानकारी देखनें को मिलेगी।
 इसके बाद अब आपको एक्टिव वाउचर को सेलेक्ट करना है।
 तुरंत इसके बाद आपके सामने मिनिस्ट्री MSME से प्राप्त 15000 रूपये का ई वाउचर दिखाई देगा, जिस पर आपको क्लिक करना है।
 इसके बाद अब आपके सामने QR Code Scan करने का Option खुल जाएगा।
 अब आप QR Code को Scan  करके सीधे दुकानदार को पेमेंट कर सकते है।

 

ध्यान दें, आप फ्री सिलाई मशीन के तहत ई-वाउचर का उपयोग कर सकते है। लेकिन आप इस ई-वाउचर को खुद के बैंक खाते में राशि नहीं भेज सकते। इसी प्रकार आप वाउचर का उपयोग सिलाई मशीन के अलावा अन्य खरीददारी के लिए भी नहीं कर सकते।

PM Vishwa Karma Yojana Update : प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना के तहत लाभार्थी महिला को सिलाई मशीन खरीदने के लिए मिलेंगे इतने रूपये, आए जानें क्या है योजना Read More »

SSC CHSL Vacancy 2024 : SSC CHSL के पदों पर होगी बंपर भर्ती, जानें कैसे भरे आवेदन

SSC CHSL Vacancy 2024 : एससी सीएचएसएल यानी केंद्र ने क्लर्कों के पदो के लिए बंपर भर्ती निकली हुई है। युवाओं के पास फिर से सुनेहरा अवसर है, अपने करियर को सपनों की उड़ान देने के लिए।

बता दें कि, कर्मचारी चयन आयोग (SSC) विभिन्न पदों की भर्ती के लिए संयुक्त उच्चतर माध्यमिक स्तर (CHSL) परीक्षा 2024 के माध्यम से अधिसूचना जारी करने जा रहा है। (SSC CHSL Vacancy 2024) अधिसूचना 8 अप्रैल 2024 को SSC की नई वेबसाइट ssc.gov.in पर जारी हो गई है। योग्य उम्मीदवार वेबसाइट ssc.gov.in पर SSC CHSL 2024 के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

यदि आपने 12वीं पास कर ली है और अभी अच्छी नौकरी की तलाश में है तो केंद्र सरकार की तरफ से संयुक्त उच्चतर माध्यमिक स्तर (CHSL) परीक्षा 2024 के तहत आवेदन कर सकते हैं।

 

एसएससी सीएचएसएल पदों का समीकरण इस प्रकार

भर्ती संगठन कर्मचारी चयन आयोग (SSC)
विज्ञापन संख्या SSC CHSL 2024
रिक्तियों की संख्या 3712
नौकरी करने का स्थान सभी भारत
ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि 8 अप्रैल 2024
ऑनलाइन आवेदन करने की अंतिम तिथि 7 मई 2024
आधिकारिक वेबसाइट ssc.gov.in

 

 

एसएससी सीएचएसएल 2024 पदों की डिटेल्स

पद का नाम Qualification
डाटा एंट्री ऑपरेटर (DEO) 12वीं पास मैथ में साइंस के साथ
लोअर डिवीजन क्लर्क (LDC) 12वीं पास
विभिन्न पद 12वीं पास

 

उम्र सीमा

इस भर्ती (SSC CHSL Vacancy 2024) के लिए आवेदक की आयु सीमा 18 से 27 वर्ष है। आयु की गणना की महत्वपूर्ण तिथि 1.8.2024 है। आयु की छूट सरकार के नियमों के अनुसार दी जाएगी।

 

आवेदन की फीस

  • सामान्य/ ओबीसी/ ईडब्ल्यूएस:- रुपये 100/-
  • एससी/ एसटी/ पीडब्ल्यूडी:- रुपये 0/-
  • भुगतान का तरीका:- ऑनलाइन

 

भर्ती का प्रोसेस

(SSC CHSL Vacancy 2024) के लिए चयन प्रक्रिया में निम्नलिखित चरण शामिल हैं :

  • टियर-1 लिखित परीक्षा
  • टियर-2 लिखित परीक्षा
  • टियर-3 स्किल टेस्ट/ टाइपिंग टेस्ट
  • दस्तावेज़ सत्यापन
  • मेडिकल परीक्षण

 

एग्जाम पैटर्न

  • नकारात्मक अंकन (Negative Marking): 1/4वां
  • समय अवधि: 1 घंटा
  • परीक्षा का मोड: ऑनलाइन (सीबीटी)
विषय प्रश्न अंक
सामान्य बुद्धिमत्ता/तर्क 25 50
सामान्य जागरूकता/जीके 25 50
मात्रात्मक योग्यता/गणित 25 50
अंग्रेजी भाषा 25 50
कुल 100 200

 

SSC CHSL Vacancy 2024 : SSC CHSL के पदों पर होगी बंपर भर्ती, जानें कैसे भरे आवेदन Read More »

Froud UPI ID Payment : अगर पैसा ट्रांसफर गलत यूपीआई आईडी पे हो जाता है, तो ये करें काम, पाई-पाई पैसा मिलेगा वापस

Froud UPI ID Payment : आजकल डिजीटल पेमेंट का जमाना है। गांव के मोहले से लेकर शहर के बड़े बाजार तक लोग सामान खरीदते समय कैस देने की जगह यूपीआई स्कैन करके पेमेंट करते है। लेकिन पेमेंट करते समय लोग कई बार जल्दबाजी में भी कई बार गलती कर बैठते है। क्योंकि लोग गलत यूपीआई आईडी (Froud UPI ID Payment) पर पैसे ट्रांसफर कर बैठते है। लेकिन अब घबराने की जरूरत नहीं हैं। अब एक ऐसी स्कीम आ गई हैं, जिससे गलत आईडी पर भेजे हुए पैसे जल्द वाफिस आ जाते है।

देशभर में डिजिटल इंडिया का रूतबा जमा हुआ है। यही कारण है कि, देश में यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस एक क्रांति की तरह काम कर रहा है। ऐेसें में इसने लेनदेन की आदत को पूरी तरह से बदल दिया हैं।

आपको बता दें कि यूपीआई ने सबकुछ बेहद आसान और तेज कर दिया है। आप कुछ क्षण में क्यूआर स्कैन करके पूरी सुरक्षा के साथ आपका पैसा ट्रांसफर और पेमेंट हो जाता है। दरअसल कि, कई बार लोग गलती से लोग किसी और के खातों में पैसा भेज देते हैं। उसके बाद परेशान होते हैं कि हमारे साथ स्कैम या धोका हो गया है।

मगर अब आपको घबराने की आवश्यकता नहीं हैं। अगर आपके साथ कुछ ऐसा होता है, तो आप ये काम करें। जिससे आपके पैसे वाफिस आ सकते हैं। आपको इसके लिए बैंक के सर्विस कॉल सेंटर में फोन करके शिकायत कर सकते हैं। इसके अलावा आप ऑनलाईन एनपीसीएल पोर्टल पर भी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

 

क्या करें जब आपका पैसा गलत आईडी पर ट्रांसफर हो जाता है

अब आपको घबराने की जरूरत नहीं हैं। अब आपको बस अब ये काम करना हैं। जैसे ही गलत यूपीआई आईडी (Froud UPI ID Payment) पर पेमेंट हो जाए तो सबसे पहले बैंक के कस्टमर सर्विस सेंटर को कॉल करें। आप चाहे तो यूपीआई सर्विस प्रोवाइडर से भी कांटेक्ट कर सकते हैं। या फिर टोल फ्री नंबर 18001201740 पर फोन करके भी शिकायत की जा सकती है। जिसमें पेमेंट की पूरी जानकारी देनी होगी। आरबीआई ने भी इस बारे में लोगों को जानकारी देनी होगी।

आरबीआई के नियमों के अनुसार अपने पेमेंट सर्विस प्रोवाइडर को सबसे पहले गलत पेमेंट की जानकारी देकर रिफंड जल्दी हासिल कर सकते हैं। गूगल पे, फोन पे, पेटीएम पे या यूपीआई (Froud UPI ID Payment) ऐप के कस्टमर केयर सपोर्ट में कॉल करके फॉर्ड मामले की जानकारी देनी होगी।

 

एनपीसीएल पोर्टल पर कैसें करे कंप्लेंट ?

अगर फिर भी आपको कहीं कस्टमर सर्विस से मदद नहीं मिल पाती है तो आप एनपीसीएल पोर्टल पर शिकायत कर सकते हैं। सबसे पहले आप एनपीसीएल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। वहां पर आप गेट इन टच पर क्लिक करें। इसके बाद मांगी गई सभी जानकारी दर्ज करें। इसमें नाम, ईमेल आईडी जैसी तमाम जानकारी भरना होगा। इसे अब सबमिट कर दें।

अब आगे बढ़ने पर Dispute Redressal Mechanism को सेलेक्ट करें। कंप्लेंट सेक्शन के तहत ट्रांजेक्शन डिटेल्स को एंटर करें। अब जिसमें यूपीआई ट्रांजेक्शन आईडी, वर्चुअल पेमेंट पता, अमाउंट ट्रांसफर्ड, डेट ऑफ ट्रांजेंक्शन, ईमेेल आईडी और मॉबाइल नंबर शामिल होगा। जहां कारण पूछा जाएगा वहां पर Incorrectly transferred to another account को सेलेक्ट करें। इसके बाद इसे सबमिट कर दें।

 

ट्रांजेक्शन के बाद कितने दिन में करें शिकायत ?

जब गलत ट्रांजेक्शन होता है तो तुरंत शिकायत करना होगा। ट्रांजेक्शन के तीन दिन के अंदर शिकायत करना आवश्यक हैं। अगर तीन दिन के बाद आप लेट हो जाते हो, शिकायत करने पर पैसा वापस आने की कोई गारंटी नहीं होती है।

Froud UPI ID Payment : अगर पैसा ट्रांसफर गलत यूपीआई आईडी पे हो जाता है, तो ये करें काम, पाई-पाई पैसा मिलेगा वापस Read More »

Credit Card UPI links : MasterCard और Visa Card से कैसे UPI पेमेंट करें, आए जानें पूरा प्रोसेस

Credit Card UPI links : आज देशभर में डिजीडल की दुनियां गांव की छोटी – छोटी दुकानों से लेकर शहर के बड़े बाजारों तक फैल गई है। जहां लोग कैश के बजाएं में ऑनलाइन पेमेंट को बढ़ावा दे रहे है। इस तरह मॉडर्न जमाने में ऑनलाइन पेमेंट (Credit Card UPI links) की संख्या में लगातार तेजी देखने को मिली है। डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार के साथ केंद्रीय बैंक (RBI) द्वारा भी कई कदम उठाए जा रहे हैं। 

 

वीजा और मास्टर कार्ड से भी यूपीआई पेमेंट कर सकतें हैं

आज हम यूपीआई पेमेंट (UPI Payment) के लिए आसानी से क्रेडिट कार्ड को भी लिंक कर सकते हैं। इसके अलावा जिन यूजर के पास Visa और Mastercard है,  वह भी यूपीआई पेमेंट कर सकते हैं।

बता दें की, डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए सरकार के साथ आरबीआई (RBI) द्वारा भी कई कदम उठाए जा रहे हैं। पहले जहां हमें यूपीआई पेमेंट (Credit Card UPI links) के लिए बैंक अकाउंट को लिंक करवाने की जरूरत होती थी।

आपको बता दें की, हम क्रेडिट कार्ड के जरिये भी आसानी से यूपीआई पेमेंट कर सकते हैं। इसका मतलब है कि अब अगर बैंक अकाउंट में पैसे नहीं है तब भी हम क्रेडिट कार्ड की मदद से यूपीआई पेमेंट कर सकते हैं।

 

डिजिटल पेमेंट से लोगों को क्या फायदा मिला ?

बाजार या ऑफिस जाते समय हम घर पर अपना पर्स भूल गए हैं तब भी हमें टेंशन नहीं होती है, क्योंकि डिजिटल के तहत हम आसानी से ऑनलाइन पेमेंट कर सकते हैं। ऑनलाइन पेमेंट के बाद नगदी रखने की चिंता पूरी तरह से खत्म हो गई है। अब हम कहीं भी बाजार या किराने की दुकान से 5 रुपये के सामान के लिए भी हम यूपीआई करतें हैं।

 

आरबीआई ने किन क्रेडिट कार्डों को अनुमति दी ?

क्रेडिट कार्ड से यूपीआई पेमेंट की जा सकती है, इसकी जानकारी देश के कई नागरिकों को सूचित नहीं है। आपको बता दें कि, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने रुपे कार्ड (RuPay) को यूपीआई से लिंक (Credit Card UPI links) करने की अनुमति पिछले साल ही दे दी थी।

यानी कि जिन यूजर के पास रुपे क्रेडिट कार्ड है, वह यूपीआई पेमेंट (RuPay credit card UPI Transaction) कर सकते हैं।

 

किन बैंकों ने क्रेडिट कार्ड से यूपीआई लिंक्स शुरू किया था ?

भारत के कुछ नीची बैंकों में क्रेडिट कार्ड से यूपीआई पेमेंट का लिंक्स (Credit Card UPI links) शुरू किया था। जिसके माध्यम से आज लोगों के लिए यूपीआई पेमेंट करना आसान हो गया है।

तमाम बैंकों ने जैसे एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank), कोटक महिंद्रा बैंक (Kotak Mahindra Bank), यस बैंक (Yes Bank) और फेडरल बैंक जैसे कई बैंक ने वर्चुअल रुपे क्रेडिट कार्ड (Virtual Rupay Credit Card) शुरू किया है।

यह एक तरह का क्रेडिट कार्ड (Credit Card) ही है। इस कार्ड के जरिये भी यूपीआई पेमेंट (UPI Payment) करना काफी आसान हो गया है।

Credit Card UPI links : MasterCard और Visa Card से कैसे UPI पेमेंट करें, आए जानें पूरा प्रोसेस Read More »

World best insurance company : दुनिया की चौथी बड़ी इंश्योरेंस कंपनी LIC, जानें पहले नंबर पर कौन है

World best insurance company : एसएंडपी ग्लोबल मार्केटिंग इंटेलीजेंस के मुताबिक एलआईसी के पास कुल 503.7 अरब डॉलर का रिजर्व है। इस लिस्ट में जर्मनी की कंपनी अलायंज एसई 750.2 अरब डॉलर रिजर्व के साथ पहले नंबर पर है। चाइना लाइन इंश्योरेंस कंपनी 616.9 अरब डॉलर के रिजर्व के साथ दूसरे और निप्पन लाइफ इंश्योरेंस कंपनी 536.8 अरब डॉलर के रिजर्व के साथ दूसरे नंबर पर है।

दुनिया की टॉप 50 इंश्योरेंस कंपनियों (World best insurance company) की लिस्ट में एलआईसी एकमात्र भारतीय कंपनी है। भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) यानी एलआईसी (LIC) देश की सबसे बड़ी इंश्योरेंस कंपनी है। लेकिन दुनिया में यह चौथे नंबर पर है।

हालांकि न्यूज बिजनस के संदर्भ में देखें तो कंपनी का मार्केट शेयर गिरकर 59 परसेंट रह गया है। प्रीमियम इनकम की बाद करें तो 2023 में भारत दुनिया में सातवें नंबर पर रहा। 2022 में भारत की रैंकिंग नौवीं थी। वैसे इस लिस्ट में यूरोप को छह देशों का बोलबाला है। इन देशों की 21 कंपनियों को इस लिस्ट में जगह मिली है।

सबसे ज्यादा ब्रिटेन की छह कंपनियां इस लिस्ट में शामिल हैं। ग्लोबल लाइफ इंश्योरेंस में भारत की हिस्सेदारी मात्र 1.9 परसेंट है। इसके बावजूद एलआईसी (LIC) दुनिया का पांच टॉप इंश्योरेंस कंपनियों (World best insurance company) की लिस्ट में शामिल है। इसकी वजह यह है कि भारतीय बाजार में एलआईसी (LIC) का दबदबा है।

 

कौन सा देश है नंबर वन ?

इंडिविजुअल कंट्री बात करें तो अमेरिका की आठ कंपनियों को इस लिस्ट में जगह मिली है। फिर भी बता दे कि, अमेरिका की सबसे बड़ी इंश्योरेंस कंपनी मेटलाइफ ग्लोबल लाइफ इंश्योरर्स की लिस्ट में सातवें नंबर पर है।

एलआईसी (LIC) की ताजा वर्ल्ड इंश्योरेंस रिपोर्ट के मुताबिक मार्च 2023 में भारत का इंश्योरेंस प्रीमियम बढ़कर 131 अरब डॉलर पहुंच गया जो एक साल पहले 123 अरब डॉलर था। टॉप 50 में एशिया की 17 और नॉर्थ अमेरिका की कंपनियां (World best insurance company) शामिल हैं। एशियाई कंपनियों में चीन और जापान की पांच कंपनियों को इस लिस्ट में जगह मिली है।

World best insurance company : दुनिया की चौथी बड़ी इंश्योरेंस कंपनी LIC, जानें पहले नंबर पर कौन है Read More »