Himmat Singh will be the new chairman of HSSC: Additional Advocate General of Haryana, government sought permission for appointment from Election Commission

Hssc new chairmen : HSSC के नए चेयरमैन होंगे हिम्मत सिंह : हरियाणा के एडिशनल एडवोकेट जनरल, सरकार ने चुनाव आयोग से नियुक्ति की परमिशन मांगी

Hssc new chairmen : हरियाणा सरकार ने हिम्मत सिंह को हरियाणा स्टाफ सिलेक्शन कमीशन (HSSC) का नया चेयरमैन नियुक्त किया है। लोकसभा चुनाव के चलते आचार संहिता लागू होने के कारण नियुक्ति की घोषणा नहीं की गई है। सरकार ने इसके लिए भारत निर्वाचन आयोग (ECI) से अनुमति मांगी है। अनुमति मिलते ही आधिकारिक रूप से उनकी नियुक्ति की जाएगी।

Himmat Singh will be the new chairman of HSSC: Additional Advocate General of Haryana, government sought permission for appointment from Election Commission
Himmat Singh will be the new chairman of HSSC: Additional Advocate General of Haryana, government sought permission for appointment from Election Commission

 

 

रोड़ जाति से हैं हिम्मत सिंह
हिम्मत सिंह (Hssc new chairmen) कैथल जिले के खेड़ी मटरवा गांव के रहने वाले हैं। उन्होंने कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी से BA LLB व LLM किया है। उन्हें वकील के तौर पर प्रैक्टिस करते हुए करीब 16 साल हो गए हैं। मौजूद समय में वह एडिशनल एडवोकेट जनरल (AAG) की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। हिम्मत सिंह रोड़ समाज से हैं। हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग (Hssc new chairmen) के अध्यक्ष बनने के रूप में रोड़ जाति को सरकार में एक बड़ा प्रतिनिधित्व मिला है। करनाल व कुरुक्षेत्र लोकसभा क्षेत्र की बात करें तो यहां रोड़ जाति का अच्छा खासा प्रभाव है।

ALSO READ  International update : बिना किसी मेहनत के कमाती है, सलाना 80 लाख रुपए ! आए जानें कमाने के लिए क्या करती है ये लड़की

 

 

हिम्मत सिंह CCTNS के कोऑर्डिनेटर रह चुके
इसके अलावा, हिम्मत सिंह ई-कस्टडी सर्टिफिकेट पहल, डिजिटल इंडिया अभियान का विकास और कार्यान्वयन का भी हिस्सा रहे हैं। उन्होंने हरियाणा में अपराध और आपराधिक ट्रैकिंग नेटवर्क और सिस्टम (CCTNS) डेटा एकीकरण परियोजना के कोऑर्डिनेटर के रूप में भी कार्य किया है।

 

 

15 मार्च को भोपाल सिंह खदरी ने दिया था इस्तीफा
भोपाल सिंह खदरी इससे पहले HSSC के चेयरमैन थे। उन्होंने 15 मार्च 2024 को इस्तीफा दे दिया था। 12 मार्च को नायब सैनी के मुख्यमंत्री बनने के बाद खदरी ने यह फैसला लिया था। उनकी पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर लाल के विश्वासपात्रों में गिनती की जाती है। वह पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व. रतनलाल कटारिया के सचिव भी रह चुके हैं। भोपाल सिंह की प्रशंसा खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कर चुके हैंं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *