Full form of Bra ; 80 प्रतिशत लोग नहीं जानतें ब्रा की फुल फॉर्म ? ब्रा की भी होती है एक्सपायरी डेट, देखें पूरी detail

Full form of Bra : हम सभी नागरिक जानते हैं कि ब्रा महिलाओं की जरूरत की सबसे अहम चीजों में से एक है। लेकिन ब्रा को लेकर आज भी समाज में खुलकर बात नहीं की जाती है। क्योंकि भारतीय समाज में इस पर खुलकर बात रखने से अच्छा आचरण नहीं माना जाता। पर पश्चिमी देशों में इस पर खुलकर बातें रखी जाती हैं।

आपको बता दें कि महिलाओं के लिए मार्केट से ब्रा की खरीददारी काफी असहज हो जाती है। हर कोई जानता है कि ब्रा मात्र एक कपड़ा है। महिलाओं को पता है कि ब्रा उनके लिए कितनी अहम है पर इसके बावजूद भी लोगों को ब्रा की फुल फॉर्म के बारे में खास जानकारी नहीं है। आज हम आपको ब्रा से जुड़े कुछ अंश लेख के माघ्यम से बताएंगे।

 

ब्रा की फुल फॉर्म क्या है ?

ALSO READ  Siddhu Moosewala's Mother post : मई के माह में सिद्धू मूसेवाला की मां चरण कौर का छलका दर्द, इंस्टाग्राम पर की भावुक पोस्ट

ब्रा (BRA) जो कि एक शॉर्ट फॉर्म है। इस छोटे शब्द के बारे में बहुत ही कम लोगों को जानकारी है। बता दें कि ब्रा एक फ्रेंच शब्द ब्रासियर (Brassier) से आया है। 1893 में इसे न्यूयॉर्क में ईवनिंग हेराल्उ पेपर में विश्ेष रूप से प्रयोग किया जाता था। 1904 में यह बहुत ज्यादा प्रचलन में आ गया था। इसके बाद 1907 में वोग मैग्जीन ब्रासियर शब्द को पहली बार फ्रिंट में प्रयोग किया गया। जबकि बाद में इस शब्द का प्रचलन बहुत बढ़ गया। कुछ वर्षों बाद इसे ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी में भी शामिल किया गया।

 

शुरूआती दौर में इस शब्द का अर्थ बच्चे की अंडरशर्ट माना जाता था, जबकि बाद में महिलाओं के अंडर गारमेंट का रूप दे दिया गया। आपकी जानकारी में बता दे कि ब्रा का एक और फुल फॉर्म है जो कि धीरे-धीरे समय के साथ काफी पॉपुलर हुआ है, ब्रा- ब्रीस्ट रेस्टिंग एरिया (Breast Resting Area), समय के साथ ब्रा में कई बदलाव आए हैं उसी तरह ब्रा के नाम भी कई अहम बदलाव आ चुके हैं।

ALSO READ  SBI Bank Increase FD Interest : SBI ने FD की ब्याज दरें बढ़ाईं : 180 से 210 दिन तक की FD पर अब मिलेगा 6% रिटर्न, देखें नई ब्याज दरें

 

1930 में कप साइज ब्रा का हुआ आविष्कार

शुरूआती दौर के समय ब्रा में कप साइज डिजाइन नहीं थे यह पढ़कर आपको जरूर आश्चर्य हुआ होगा। पर आपने सही पढ़ा है, बिना कप साइज के ब्रा में महिलाएं को कितनी परेशानी होती होगी यह हम केवल विचारणीय सोच ही सकते हैं। आपकी जानकारी में बता दें कि 1930 में एस.एच.कैंप (S.H. Camp) कंपनी ने पहली बार कप साइज का आविष्कार किया था। मॉर्डन समय में कप साइज का डिजाईन ए से डी साइज में मिलने लग गए हैं।

 

महिलाएं गलत ब्रा का प्रयोग करती है

अधिकतर महिलाएं गलत साइज की ब्रा पहनती है। एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनियाभर की लगभग 80 प्रतिशत महिलाएं गलत साइज की ब्रा पहनती हैं। आज के समय में महिलाएं फिटिंग और साइज नापने के बाद भी गलत ब्रा पहनती हैं।

ALSO READ  दुनिया के सबसे गंदे आदमी की मौत, बिना नहाए 50 साल जिआ, नहाया तो मरा

 

ब्रा की एक्सपायरी डेट भी होती है

आपको यह जानकर हास्यस्पद लगता होगा कि भला कपड़े में कैसी एक्सपायरी डेट हैं ना, जी हां बहुत लोगों को यह बात नहीं पता है। पर हां ब्रा की भी एक्सपायरी डेट (BRA expiry date) होती है। अधिकतर महिलाएं सालों साल तक ब्रा (BRA) का इस्तेमाल करती है। जो कि गलत है एक ब्रा को 8 से 9 महिने तक इस्तेमाल करना चाहिए। ज्यादा समय तक एक ही ब्रा का इस्तेमाल करने से वह सपोर्ट नहीं करती है। पर हमारे समाज की महिलाएं ज्यादा समय तक ब्रा का इस्तेमाल करती है

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *