Difficulties for Indian students increase in Canada, Trudeau government cuts income along with studies

Canada News : कनाडा में भारतीय छात्रों की बढ़ी मुश्किल, पढ़ाई के साथ इनकम पर ट्रूडो सरकार की चली कैंची

Canada News : भारतीय समेत अन्य अंतरराष्ट्रीय छात्रों को कनाडा में आर्थिक मुश्किले झेलनी पड़ सकती हैं। छात्रों की पढ़ाई के साथ-साथ कमाई पर ट्रूडो सरकार ने कैंची चला दी है। यानी कैंपस या पढ़ाई के बाद काम करने के उनके घंटो में कमी कर दी गई है। कनाडा के नए नियमों के मुताबिक, अब छात्र सितंबर माह से पर हफ्ता 24 घंटे ही परिसर से बाहर रहकर काम कर सकेंगे। आने वाले दिनों में इस संबंध में नया नियम प्रभाव में आएगा।

 

 

 

 

कनाडा के नागरिकता मंत्री मार्क मिलर ने छात्रों पर क्या कहा ?

कनाडा (Canada News) के आव्रजन, शरणार्थी और नागरिकता मंत्री मार्क मिलर ने सोमवार को जारी बयान में कहा कि, छात्रों को प्रति सप्ताह परिसर से बाहर 20 घंटे से अधिक काम करने की ईजाजत देने वाली अस्थायी नीति 30 अप्रैल, 2024 को बंद हो जाएगी। उन्होंने कहा कि, हम छात्रों द्वारा प्रति सप्ताह परिसर से बाहर काम करने के घंटों की संख्या को बदलकर 24 घंटे करना चाहते हैं।

ALSO READ  EPFO खाताधारकों के लिए बड़ी खुशखबरी, शुरू हुई ये नई सुविधाएं, फटाफट देखें पूरी जानकारी

 

 

 

 

 

छात्रों को कोविड-19 महामारी में मिली थी छूट

कनाडा (Canada News) के पीएम जस्टिन ट्रूडो सरकार ने देश में कामगारों की कमी को पूरा करने के लिए कोविड-19 महामारी के दौरान अंतरराष्ट्रीय छात्रों के लिए काम के घंटों की 20 घंटे की सीमा को अस्थायी रुप से माफ कर दिया था। इसी कारण से छात्र प्रति सप्ताह 20 घंटे से ज्यादा तकरीबन 40 घंटे तक यानि पूर्ण समय काम कर रहे थे और उससे अतिरिक्त इनकमिंग कर रहे थे। लेकिन एक मीडिया रिर्पोट के मुताबिक, यह छूट मंगलवार को समाप्त हो रही है।

 

 

 

 

कनाडा में कितने छात्र पढ़ते है ?

भारतीय छात्रों के हिसाब से कनाडा सबसे पसंदीदा गंतव्य है। कनाडाई अंतरराष्ट्रीय शिक्षा ब्यूरो की 2022 की एक रिपोर्ट के मुताबिक कनाडा (Canada News) में उस साल 3,19,130 भारतीय छात्र थे। कनाडा में कॉलेजों और विश्नविद्यालयों में पढ़ने वाले अंतरराष्ट्रीय छात्रों में भारतीय बहुतायत में हैं।

ALSO READ  Motorola X50 Ultra : 16 मई को लॉन्च हो रहा है Motorola का ये नया स्मार्टफोन, प्रोसेसर भी दमदार और 125W की चार्जिंग भी फर्स्ट क्लास

सीएएसए के एडवोकेसी निदेशक माटेउज सलमासी ने कहा, ” इस घोषणा के बाद 200,000 से अधिक अंतरराष्ट्रीय छात्रों को हर साल अपनी जेब से औसतन, कम से कम 5,000 डॉलर यानी 4.17 लाख रुपये का नु्कसान होगा। “

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *