ठाकर बस्ती में बिजली का खंभा गिरा, दुकानों के शेड पर गिरी तारें, बड़ा हादसा होता तो कौन होता जिम्मेवार

फतेहाबाद। शहर में आज तड़के से ही हलकी बारिश हो रही है और इसी दौरान शहर की ठाकर बस्ती में एक बड़ा हादसा होने से टल गया। ठाकर बस्ती में लगा पुराना बिजली का खंभा आज सुबह करीब 8 बजे गिर गया। बिजली की हाई वोल्टेज करंट की तारें दुकानों के शेड पर जा गिरीं और सड़क पर इतनी नीचे लटक गई कि कोई छोटा बच्चा भी उसे छू ले। संयोग से उस समय बाजार खुला न होने के चलते और बारिश होने के चलते सड़क पर चहल पहल नहीं थी और दुकानें भी बंद थी, नहीं तो बिजली निगम के कर्मचारियों की लापरवाही भारी पड़ सकती थी। पहले तो लापरवाही बरती ही बरती, खंभा टूटने के बाद भी निगम कर्मचारियों ने फुर्ती नहीं दिखाई। दुकानदारों द्वारा खंभा टूटते ही निगम कर्मचारियों का सूचित कर दिया गया, लेकिन मौके पर करीब 11 बजे निगम के कर्मचारी पहुंचे और खंभे की तारें सही करने की कार्रवाई शुरू की।

ALSO READ  मंत्री बबली के प्रोग्राम में विरोध करने वाले सरपंच को मंत्री का स्पष्ट जवाब

घटना का वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करें

दुकानदारों ने बताया कि ठाकर बस्ती में पुरानी सब्जी मंडी के मोड़ से कुछ ही दूरी पर एक बिजली का खंभा बहुत जर्जर हालत में था, पहले भी वह तीन जगह से क्रेक होने के कारण उसे लोहे के शिकंजो से रोका हुआ था। अब पिछले कुछ दिनों से यह गिरने की हालत में था तो बिजली निगम को इस बारे में बता दिया गया। करीब पौना महीना पहले निगम कर्मचारियों ने यहां साथ ही नया खंभा गाड़ दिया, लेकिन उस पर पुराने खंभे की तारें नए खंभे पर नहीं ट्रांसफर की गई। आज तड़के बारिश हुई और अमूमन बाजार के दुकानदार साढ़े 7 बजे दुकानें खोल लेते हैं, लेकिन बारिश के कारण दुकानदार लेट थे। इसी दौरान एक दुकानदार दुकान खोलने लगा तो जोरधार धमाका हुआ और देखा कि उसके पीछे ही यह खंभा भरभरा कर गिर गया और उसकी तारें दुकानों के शेडों पर गिर गई, उसी दौरान बिजली गुल हो गई और तारें पूरी लाइन में दुकानों के शटर के आगे झूलने लगी। उन्होंने बिजली कर्मचारियों पर लापरवाही का आरोप जड़ते हुए कहा कि यह काफी संकरा मार्ग है और अकसर यहां पर बहुत चहल पहल रहती है, कार-बाइक या पैदल लोग हर समय यहां से गुजरते रहते हैं, दुकानों का माल लाने वाले कैंटर यहां खड़े रहते हैं, यदि दिन में यह खंभा गिरता तो बड़ा हादसा होने से कोई रोक नहीं सकता था, क्योंकि तारें बहुत लंबी दूरी तक गिरी हैं और खंभा सामने की दुकान के बिल्कुल शटर तक जाकर गिरा है। सूचना देने के भी तीन घंटों बाद निगम कर्मचारी पहुंचे हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *