Government becomes strict on dowry system, government employees will have to give an affidavit of not taking dowry! Teacher said, want an educated girl

Indian Dowry- system update : दहेज प्रथा पर सख्त हुई सरकार, सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज न लेने का शपथपत्र! शिक्षक बोले, पढ़ी-लिखी लड़की चाहिए

Indian Dowry- system update : सरकारी कर्मचारियों को अब दहेज न लेने का शपथपत्र देना होगा। यूपी सरकार द्वारा यह नियम दहेज पर लगाम लगाने के लिए लागू किया जा रहा है। वाराणसी के शिक्षक वर्ग ने इस फैसले का स्वागत किया है। उनका मानना है कि, पढ़ी-लिखी लड़कियों को प्राथमिकता देनी चाहिए।

 

 

नियुक्ति के समय शपथ- पत्र लेना अनिवार्य

दहेज (Indian Dowry- system update ) पर लगाम लगाने के लिए शासन स्तर से सख्ती शुरू हो गई है। सरकारी सेवा में कार्यरत अधिकारी-कर्मचारी अपनी शादी में अब दहेज नहीं ले सकेंगे। उन्हें शादी के समय का जिक्र करते हुए अपने नियुक्ति अधिकारी को यह शपथ पत्र देना होगा कि, उन्होंने अपनी शादी में किसी तरह का दहेज नहीं लिया है। इस प्रकार सरकारी भर्तियों में नियुक्त होते समय प्राथी को शपथपत्र अनिवार्य होगा।

ALSO READ  मिड डे मील में छिपकली : अध्यापक ने पीटा और बैंगन बोल कर खिलाया, 200 बच्चे बीमार

 

जबकि वाराणसी जिले के सबसे बड़े सरकारी सेवा वर्ग से जुड़े शिक्षकों ने इस व्यवस्था का स्वागत करते हुए कहा कि, वे दहेज (Indian Dowry- system update ) नहीं लेंगे और विद्यार्थियों व अन्य लोगों को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित करेंगे।

 

सरकारी अधिकारियों- कर्मचारियों को अपनी शादी में दहेज (Indian Dowry- system update ) लेने से रोक लगाने के लिए शासन स्तर से पहल शुरू हो गई है। शासन उत्तर प्रदेश दहेज प्रतिषेध नियमावली 2004 का पालन सख्ती से कराने के लिए सक्रिय हो गया है।

 

 

 

महिला कल्याण विभाग के भी आदेश जारी हुए

महिला कल्याण विभाग की निदेशक संदीप कौर ने सभी विभागाध्यक्षों को दिशा निर्देश जारी किया है कि सरकारी सेवकों से इसका शपथ पत्र लिया जाए। इसके लिए निर्धारित फॉर्मेट में एक शपथ पत्र भरकर देना होगा, जिसमें स्पष्ट करना होगा कि उसने शादी के समय या बाद में दहेज (Indian Dowry- system update ) नहीं लिया है

ALSO READ  युवक की तेजधार हथियार से हत्या : चचेरे भाई सहित तीन पर एफआईआर

 

 

शपथ- पत्र पर शिक्षक बोले, दहेज नहीं ! पढ़ी-लिखी लड़की चाहिए

बता दें की, जिले में सरकारी सेवा के सबसे बड़े वर्ग से जुड़े शिक्षकों ने इस निर्देश का स्वागत करते हुए कहा कि, हमें दहेज नहीं, पढ़ी-लिखी लड़की को प्राथमिकता देनी चाहिए। उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष सकलदेव सिंह ने कहा कि शासन के इस आदेश का पालन हर शिक्षक करेगा और विद्यार्थियों व अन्य लोगों को भी प्रेरित करेगा।

शैक्षिक महासंघ के कार्यकारी जिलाध्यक्ष ज्योतिप्रकाश ने कहा कि समाज के लिए अभिशाप दहेज (Indian Dowry- system update ) के कारण कई मासूम लड़कियों ने आत्महत्या कर ली।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *