Take maximum benefit of health insurance in this way, this policy will be useful to you in the hospital.

Health Insurance Plans : स्वास्थ्य बीमा का अधिकतम लाभ इस प्रकार लें, हस्पताल में ये पॉलिसी आयेगी आपके काम

Health Insurance Plans : स्वास्थ्य बीमा पॉलिसियों में कई अलग-अलग स्कीम शामिल हैं, उनमें से हर एक अपने अनोखे लाभ, सीमाएं और एक्सक्लूज़न हैं। इन सभी पहलुओं को पूरी तरह से समझ लेना बहुत आवश्यक है। जैसे कि, कुछ पॉलिसियों में डेंटल प्रोसिजर्स को कवर किया जाता है, लेकिन एक्सपेरिमेंटल मानी जाने वाली कुछ प्रकार की सर्जरीज़ उनमें शामिल नहीं होती हैं। इन बातों के बारे में पहले से जागरूक रहने से मेडिकल देखभाल के दौरान अचानक से आने वाले वित्तीय तनाव से बचा जा सकता है।

 

 

 

 

प्रपोजल फॉर्म भरते समय रखे ध्यान

बता दें की, प्रपोज़ल फॉर्म पर दी गई सूचना में कुछ भी गलत या झूठ नहीं होना चाहिए। यह आपके बीमा कवरेज की नींव है। प्रोपोजल फॉर्म में सभी खुलासे सही करें और सुनिश्चित करें कि उन्हें पॉलिसी में भी सही ढंग से दर्ज किया गया है। महत्वपूर्ण जानकारी का खुलासा न करने से क्लेम अस्वीकृत हो सकते हैं और कुछ मामलों में पॉलिसी रद्द भी हो सकती है।

 

 

 

 

कैशलेस सुविधा का लाभ

कैशलेस सुविधा स्वास्थ्य बीमा कंपनियों (Health Insurance Plans) द्वारा दिया जाने वाला एक महत्वपूर्ण लाभ है। इससे अस्पताल के बिल कंपनी और अस्पताल के बीच सीधे निपटाए जाते हैं। मेडिकल इमर्जेंसी के दौरान यह सुविधा होने से तत्काल धन की व्यवस्था करने का बोझ कम हो जाता है।

ALSO READ  Haryana Heatwave weather : हिट वेव और भीषण गर्मी को लेकर हरियाणा, पंजाब-चंडीगढ़ में मौसम विभाग का अलर्ट

उदाहरण के तौर पर, अगर किसी व्यक्ति को इमर्जेंसी सर्जरी के लिए भर्ती किया गया है और उसके पास कैशलेस सुविधा है तो उसका परिवार अस्पताल के बिल चुकाने के लिए धन जुटाने की चिंता करने के बजाय मरीज़ की रिकवरी पर ध्यान केंद्रित कर सकता है। इस सुविधा के तहत नियोजित उपचारों के लिए प्री-ऑथोराइज़ेशन होने से कवरेज और जेब से होने वाले खर्चों के बारे में स्पष्टता रहती है।

 

 

 

आपातकाल के दौरान नकदी ऋण के लिए 24 घंटे के लिए करें आवदेन

नियोजित या प्लानिंग कर होने वाले इलाज के मामले में अस्पताल में भर्ती होने से 48 घंटे पहले नकदी ऋण यानी कैशलेस के लिए आवेदन करें। इससे आपको भर्ती होने से पहले स्वीकार्यता और मात्रा की जानकारी मिल सकेगी। आपातकाल में, भर्ती होने के 24 घंटे के भीतर नकदी ऋण के लिए आवेदन करें। आज के दौर में, अधिकांश बीमा कंपनियां गैर-नेटवर्क अस्पतालों में नकदी ऋण सुविधा दे रही हैं, अपनी बीमा कंपनी द्वारा निर्धारित प्रक्रिया का पालन करके सुविधा का लाभ उठाएं।

 

 

 

इस नियम के मुताबिक आपकी जेब से भी लग सकते हैं पैसे

जब मेडिकल खर्च के कुछ हिस्से का भुगतान पॉलिसीधारक को करना होता है, यानी को-पेमेंट के उपनियमों में कुछ पॉलिसियों में साझा वित्तीय जिम्मेदारी को रेखांकित किया गया है। अगर किसी पॉलिसी में सभी दावों पर 20% को-पेमेंट निर्धारित किया गया है, और अस्पताल का बिल 3,00,000 रुपये है, तो पॉलिसीधारक को 60,000 रुपये अपनी जेब से भरने होंगे। इन उपनियमों को पूरी तरह से समझने से पॉलिसीधारक अपने स्वास्थ्य देखभाल खर्चों के लिए अधिक प्रभावी ढंग से बजट बना सकता है। पॉलिसियों (Health Insurance Plans) में कमरे के किराए या कवर किए गए कमरे की श्रेणी की सीमा निर्धारित होती है। इन सीमाओं को पार करने पर क्लेम रकम से भारी कटौती हो सकती है।

ALSO READ  Haryana ACB raid : ACB की टीम के द्वारा एसएचओ एवं एएसआई मामले में गिरफ्तारी, 50 हजार की घूस लेते हुए पकड़े गए

 

उदाहरण के तौर पर, पॉलिसी सीमा से ज़्यादा कीमत का कमरा चुनने पर क्लेम का भुगतान कम हो सकता है। अपनी जेब से पैसा खर्च होने से बचने के लिए पॉलिसी सीमाओं के भीतर ही कमरा चुनना महत्वपूर्ण है। यह सीमा आपके क्लेम डिस्बर्समेंट में भारी कटौती ला सकती है, खासकर अगर आपकी पॉलिसी में प्रपोर्शनेट कटौती के प्रावधान शामिल हैं।

 

ऐसे प्रावधान में कमरे के किराए की पॉलिसी में निर्धारित सीमा के सापेक्ष कमरे की लागत के आधार पर क्लेम रकम के भुगतान को कम ज़्यादा किया जाता है। उदाहरण के तौर पर, यदि आप अस्पताल का ऐसा कमरा चुनते हैं जिसकी कीमत आपकी पॉलिसी (Health Insurance Plans) की निर्धारित सीमा से अधिक है, तो न क्लेम भुगतान में न केवल कमरे का शुल्क कम मिलेगा बल्कि कुल अस्पताल बिल भी उस प्रपोर्शन में कम हो सकता है।

ALSO READ  Health Ministry Advise post : हेल्थ मिनीस्ट्री ने एक्स पर पोस्ट शेयर कर कहा, गर्मी के कारण बेहोश हुए व्यक्ति को पानी पिलाने से बचें! नहीं हो सकता है ये खतरा

 

 

 

मेडिकल में इस समान के लिए जेब से खर्च करना पड़ सकता है पैसा

कई पॉलिसियों (Health Insurance Plans) में कुछ प्रोसिजर या उन्नत उपचारों के लिए उप-सीमाएं निर्धारित की जाती हैं। मरीज़ को सुझाए गए इलाज का खर्च अगर इन सीमाओं से ज़्यादा है, तो उस डिफरेंस रकम को भरने की जिम्मेदारी पॉलिसीधारक की होती है। किसी की मेडिकल देखभाल और वित्तीय योजना के बारे में जानकारीपूर्ण निर्णय लेने के लिए इन सीमाओं के बारे में जान लेना ज़रूरी है।

दस्ताने और पट्टियों जैसी मेडिकल कंज़्यूमेबल सामग्रियों का कवरेज हर पॉलिसी में अलग-अलग होता है, कई पॉलिसियों में ये वस्तुएं शामिल नहीं होती हैं। आम तौर पर ये एक्सक्लूज़न मामूली लग सकता है, लेकिन इसकी वजह से क्लेम की रकम का 3-5% खर्च आपको अपनी जेब से करना पड़ सकता है। पॉलिसीधारकों (Health Insurance Plans) को ऐसे एक्सक्लूज़न की सूचना पाने के लिए अपने पॉलिसी डिटेल्स की अच्छी तरह से जांच करनी चाहिए, इससे वह अपने कवरेज को अच्छी तरह से समझ सकेंगे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *