घातक लिफोंमा बीमारी से पीडि़त फतेहाबाद के बुजुर्ग को अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में मिला जीवनदान

फतेहाबाद। महाराजा अग्रसैन मेडिकल कॉलेज अग्रोहा में फतेहाबाद के एक वृद्ध को कैंसर से भी जटिल बीमारी का इलाज कर नया जीवनदान मिला है। बुजुर्ग को लिंफोमा कैंसर था और उसके माथे पर बड़ा घाव बना हुआ था। हालत यह हो गई थी कि जांच में उसकी दोनों आंखें, माथे की हड्डी, चमड़ी व नाक की जड़ भी बीमारी की जद में थी और मरीज की जान पर बन आई थी। सर्जरी के बाद अब मरीज स्वस्थ है।

जानकारी के अनुसार फतेहाबाद के 62 वर्षीय एक बुजुर्ग के माथे पर बड़ा घाव था और अब साल भर से वह काफी परेशान था। वह 10 सितंबर को मेडिकल कॉलेज में ओपीडी के लिए गया था। जब उसकी पूरी जांच की गई तो घाव लिंफोमा कैंसर निकला। आपको बता दें कि डॉक्टर्स के अनुसार इस बीमारी से पीडि़त ज्यादा नहीं हैं। घाव दोनों आंखें, नाक और माथे की हड्डी तक फैला हुआ था तो मरीज की दोनों आंखें और नाक बचाना बड़ा चैलेंज था। इसके बाद डॉक्टर्स ने आपरेशन करने का निर्णय लिया।

ALSO READ  बेटे से मिलने आस्ट्रेलिया जाना था, लेकिन भगवान को कुछ और ही मंजूर था

न्यूरो विभाग के डॉक्टर इशु बिश्नोई, प्लास्टिक सर्जरी विभाग से डॉ.स्वप्निल गर्ग, नेत्र रोग विभाग से डॉ. अर्पणा, डॉ.निशा, डॉ.बंसीलाल, डॉ. विशाल गोयल, डॉ.सुमित्रा, डॉ.मोहित की टीम ने आपरेशन को सफल बनाया। आंखों और माथे को ढकने के लिए पहले प्लास्टिक सर्जरी की गई, फिर लिंफोमा का इलाज किया गया।

लिंफोमा क्या है

लिंफोमा एक तरह का कैंसर है, जो संक्रमण से लडऩे वाली शरी की प्रतिरक्षा प्रणाली की कोशिकाओं में शुरू होता है। यह कोशिकाएं शरीर के कई अंगों जैसे लिम्फ नोड्स, थाइमस, प्लीहा और अस्थि मज्जा में मौजूद रहती हैं। यदि यह कैंसर होता है तो त्वचा के नीचे दर्द रहित गांठ बननी शुरू हो जाती है। ज्यादातर यह गर्दन, बगल, पेट, कमर, जांघ पर होते हैं। पेट में सूजन, ठंड लगना, बुखार, वजन में और थकान आदि मुख्य लक्षण हैं।

1 thought on “घातक लिफोंमा बीमारी से पीडि़त फतेहाबाद के बुजुर्ग को अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में मिला जीवनदान”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *