Devi, Bansi and Bhajan once had dominance in the 1980s, today 'Lal' politics is marginalized in Haryana.

Haryana politician family news : देवीलाल, बंसीलाल और भजनलाल का कभी 1980 के दशक में हुआ करता था वर्चस्व, आज हरियाणा में हाशिए पर ‘लाल’ की राजनीति

Haryana politician family news : अबकी बार 2024 के लोकसभा चुनावों में हरियाणा की राजनीति में परिवर्तन के साथ नया भूचाल आया है ।  हरियाणा में 1980 के दशक में राज करने वाले तीन ‘लाल’ की राजनीतिक का वर्चस्व खत्म होता जा रहा है, वहीं चौथे लाल ‘मनोहर लाल’ इस समय सक्रिय राजनीति में हैं। 1 नवंबर 1966 को हरियाणा बनने के बाद प्रदेश के तीन लाल ‘देवीलाल, बंसीलाल, भजनलाल’ ने राजनीतिक की कमान संभाली।

लंबे समय तक बदल-बदल कर तीनों लाल ने हरियाणा में राज किया। इनमें पूर्व सीएम देवीलाल देश के उपप्रधानमंत्री पद तक भी पहुंचे। जबकि, बंसीलाल और भजनलाल हरियाणा के साथ-साथ केंद्र की राजनीति में सक्रिय रहे। तीनों लाल के बाद उनके परिवारों ने राजनीतिक विरासत को संभाला और हरियाणा में सक्रियता दिखाई। बंसीलाल के बेटे स्व. सुरेंद्र सिंह प्रदेश में मंत्री रहे।

ALSO READ  Hssc new chairmen : HSSC के नए चेयरमैन होंगे हिम्मत सिंह : हरियाणा के एडिशनल एडवोकेट जनरल, सरकार ने चुनाव आयोग से नियुक्ति की परमिशन मांगी

सुरेंद्र सिंह के निधन के बाद उनकी पत्नी किरण चौधरी आज भी सक्रिय राजनीति कर रही हैं। अबकी बार  लोकसभा चुनाव के परिदृश्य से बंसीलाल का परिवार बाहर हो गया है। कांग्रेस की आपसी खींचतान के चलते बंसीलाल की राजनीतिक विरासत को संभाल रही श्रुति चौधरी को इस बार टिकट नहीं दी।

देवीलाल परिवार की वर्चस्व की लड़ाई 

 

इस बार लोकसभा चुनावों में देवीलाल परिवार (Haryana politician family news ) की वर्चस्व की लड़ाई है। देवीलाल के बेटे ओम प्रकाश चौटाला पांच बार प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। देवीलाल की तीसरी पीढ़ी इस समय सक्रिय राजनीति में है। देवीलाल के बेटे रणजीत चौटाला, पोते की पत्नी नैना चौटाला और सुनैना चौटाला, इस बार लोकसभा चुनावों में जंग के मैदान में उतरे हैं।

भजनलाल का परिवार भी इस बार लोकसभा चुनाव से बाहर

 

ALSO READ  सोनाली फौगाट के पैतृक गांव भूथनकलां में शोक की लहर, लोग बोले: उन्हें मारा गया है, जांच हो

इस बार लोकसभा चुनाव (Haryana politician family news ) से हरियाणा के तीसरे लाल यानी भजनलाल का परिवार भी बाहर हो गया है। भजनलाल के बेटे कुलदीप बिश्नोई हिसार से भाजपा के टिकट के प्रबल दावेदार थे। वहीं, भजनलाल के बड़े बेटे चंद्रमोहन को हिसार से कांग्रेस प्रत्याशी बनाने के लिए कांग्रेस का एक गुट जोर लगा रहा था। दोनों ही भाइयों को कांग्रेस और बीजेपी की तरफ से निराशा ही हाथ लगी है। इस चलते दोनों भाई फिलहाल घर बैठ गए हैं।

हरियाणा का चौथा लाल, अभी है मस्त उल्लास

 

हरियाणा का चौथा लाल पूर्व सीएम मनोहर लाल खट्टर को माना जाता है। मनोहर लाल हरियाणा की राजनीति में अभी मस्त उल्लास हैं। हरियाणा में भाजपा ने वर्ष 2014 के दौरान मनोहर लाल को राजनीति में उतारते हुए नारा दिया कि, तीन लाल के बाद अब चौथे लाल हरियाणा को बनाएंगे बेमिसाल। मनोहर लाल इस समय भाजपा की राजनीति के मुखिया के रूप में काम कर रहे हैं। बीजेपी ने उन्हें फ्री हैंड दिया हुआ है। करीब साढ़े नौ साल मुख्यमंत्री रहने के बाद अब वह करनाल से लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *