Electricity production decreased in thermal plants, demand increased due to heat

Electricity thermal Plant News : थर्मल प्लांटों में घटा बिजली का उत्पादन, गर्मी के चलते बढ़ी डिमांड  

Electricity thermal Plant News : राजीव गांधी थर्मल पावर प्लांट खेदड़ (हिसार), पानीपत थर्मल पावर प्लांट और यमुनानगर दीनबंधु छोटूराम थर्मल पावर प्लांट में गर्मी के चलते तीनों प्लांटों में बिजली के उत्पादन पर असर पड़ने लगा है। तीनों प्लांट 2510 मेगावाट के हैं, जबकि मौजूदा समय में इन प्लांटों से करीब 1956 मेगावाट ही उत्पादन हो रहा है। भिन्न -भिन्न प्लांट खेदड़ में स्थापित 1200 मेगावाट प्लांट से 900, पानीपत के 710 मेगावाट से 538 और यमुनानगर के 600 मेगावाट से करीब 502 मेगावाट रोजाना बिजली उत्पादन हो रहा है। दिन प्रतिदिन बढ़ रही गर्मी की तपिश संग बिजली खपत भी बढ़ने लगी है। इस तरह का बिजली का उत्पादन भी कम होने लगा है।

 

 

 

हरियाणा के किन हिस्सो से बिजली आती है ?

पानीपत, हिसार के खेदड़ और यमुनानगर में लगे थर्मल पावर प्लांट से हरियाणा के अन्य हिस्सों में आवश्यक के मुताबिक रोजाना बिजली आपूर्ति की जाती है।  यमुनानगर में रोजाना करीब 5 करोड़ रुपये की बिजली का उत्पादन होता है जबकि खेदड़ में 10 करोड़ की बिजली का (Electricity thermal Plant News) उत्पादन होता है। यमुनानगर  थर्मल के 600 मेगावाट यूनिटों में बने स्विच यार्ड से चार डबल सर्किट बने हुए हैं।

ALSO READ  Haryana Farmer protest : छह दिन से पटरी पर डटे किसान 788 ट्रेनें प्रभावित, 352 रद्द, क्या है इनकी मांगें ?

 

जबकि बकाना वन, बकाना टू, जोड़ियों वन, जोड़ियो टू, अब्दुलापुर वन, रामपुर सर्किट, नीलोखेड़ी वन और नीलोखड़ी टू सर्किट जुड़े हैं। इन्हीं सर्किटों से थर्मल की इन और आउट बिजली की सप्लाई होती है और स्विच यार्ड से डिमांड के अनुसार रोजाना बिजली की सप्लाई होती है। 

 

बता दें कि, यमुनानगर की तरह हिसार के राजीव गांधी थर्मल पावर प्लांट (Electricity thermal Plant News) खेदड़ में भी स्विच यार्ड से चार सर्किट बने हुए हैं। इनमें किरोड़ी वन, किरोड़ी टू, फतेहाबाद के गांव मताना और सिरसा के नुईयावाली में 400 केवी के सर्किट हैं। यहां भी बिजली इन और आउट की अंतर्गत सप्लाई होती है।

 

 

 

प्रदेश में बिजली की मांग मौसम के हिसाब से ईतनी बढ़ती है

एमडी मोहम्मद साइन के मुताबिक, मौजूदा समय में प्रदेश में कुल 10 हजार 500 मेगावाट बिजली की आपूर्ति की जा रही है। जून-जुलाई में 12 हजार मेगावाट तक मांग बढ़ जाती है, जबकि सर्दियों में 6 से 7 हजार मेगावाट तक मांग रहती है। प्रोडक्शन HPGCL की मांग 2.5 हजार मेगावाट है।

ALSO READ  Haryana Politics : JJP को झटका देने की तैयारी में देवेंद्र बबली, X अकाउंट पर पोस्ट के मायने आखिर क्या ?

 

 

 

किस थर्मल पावर प्लांट से कितना बिजली उत्पादन

 

पानीपत थर्मल पावर प्लांट यमुनानगर थर्मल पावर प्लांट राजीव गांधी खेदड़ थर्मल पावर प्लांट
यूनिट                         मेगावाट यूनिट                         मेगावाट यूनिट                         मेगावाट
यूनिट–6 (210)            170 यूनिट–1(300)            216 यूनिट–1(600)            363
यूनिट–7(250)            183 यूनिट–2(300)             235 यूनिट–2(600)             534
यूनिट–8(250)             180    
कुल बिजली उत्पादन :– 537 मेगावाट कुल बिजली उत्पादन:–451 मेगावाट कुल बिजली उत्पादन:–897 मेगावाट 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *